loader

दिल्ली में केस बढ़ रहे हैं, पर घबराने की ज़रूरत नहीं, संक्रमण हल्का: केजरीवाल

दिल्ली में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामलों के बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लोगों से अपील की है कि वे घबराएँ नहीं। उन्होंने कहा कि घबराने की ज़रूरत नहीं है क्योंकि अधिकांश संक्रमण हल्के हैं।

उन्होंने कहा, 'दिल्ली में कोविड -19 के मामले तेज़ी से बढ़ रहे हैं, लेकिन घबराने की ज़रूरत नहीं है। फ़िलहाल शहर में एक्टिव केस 6360 हैं। तीन दिन पहले 2291 एक्टिव केस थे। कल तक सिर्फ़ 246 अस्पताल बेड भरे थे और सभी केस हल्के और बिना लक्षण वाले हैं।' उन्होंने यह भी कहा कि आँकड़े बताते हैं कि दूसरी लहर के दौरान आए मामलों की अपेक्षा ताज़ा मामलों का प्रभाव कमतर है।

ताज़ा ख़बरें

कोरोना संक्रमण को लेकर की गई एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में केजरीवाल ने कहा, 'कल 246 अस्पताल के बिस्तर भरे थे। अभी तक अस्पतालों में केवल 82 ऑक्सीजन बेड भरे हैं। यह आँकड़ा पिछले कई दिनों से समान है। कोई रोगी नहीं आ रहा है जिसे ऑक्सीजन की आवश्यकता है। दिल्ली सरकार 37,000 बिस्तरों के साथ तैयार है।' 

उन्होंने यह भी कहा कि 29 दिसंबर को 923 मामले, 30 दिसंबर को 1313 मामले, 31 दिसंबर को 1796 मामले और 1 जनवरी को 2716 मामले दर्ज किए गए। आज यानी रविवार को 3100 नए मामले सामने आने की संभावना है। उन्होंने कहा कि भले ही मामले बढ़े हैं, लेकिन अस्पताल में भर्ती होने वालों की संख्या कम हुई है। यह एक अच्छा संकेत है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने दावा किया कि आँकड़ों से पता चलता है कि शहर के अधिकांश कोरोना रोगियों को अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता नहीं है और लगभग सभी मामले हल्के या बिना लक्षण वाले हैं। फिर भी सरकार संभावित तीसरी लहर के लिए युद्धस्तर पर तैयारी कर रही है।

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने लोगों को सलाह दी कि मास्क पहनें, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें, साबुन से हाथ धोएं और चिंता न करें।

बता दें कि राष्ट्रीय राजधानी में अब तक ओमिक्रॉन वैरिएंट के कम से कम 351 मामलों की पुष्टि हो चुकी है। देश भर में यह राज्य दूसरे स्थान पर है। पहले स्थान पर यानी नये वैरिएंट संक्रमण के सबसे ज़्यादा मामले महाराष्ट्र में 460 आए हैं। देश के 23 राज्यों में इसके संक्रमण का पता चला है। ओमिक्रॉन वैरिएंट के मामले 1525 हो गए हैं इसमें से 560 लोग पूरी तरह ठीक हो चुके हैं। 

दिल्ली से और ख़बरें

इनके अलावा गुजरात में 136, तमिलनाडु में 117, केरल में 109, राजस्थान में 69, तेलंगाना में 67, कर्नाटक में 64, हरियाणा में 63, पश्चिम बंगाल में 20, आंध्र प्रदेश में 17 और ओडिशा में 14 मामले आए हैं। मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, चंडीगढ़, जम्मू और कश्मीर, अंडमान निकोबार द्वीप समूह, गोवा, हिमाचल प्रदेश, लद्दाख, मणिपुर और पंजाब में भी नये वैरिएंट के मामले सामने आ चुके हैं। 

दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) ने बुधवार को फैसला किया था कि दिल्ली में 'येलो अलर्ट' के तहत लगाए गए कोविड से संबंधित प्रतिबंध फिलहाल जारी रहेंगे और नए प्रतिबंधों पर निर्णय लेने से पहले अधिकारी कुछ समय के लिए स्थिति की निगरानी करेंगे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें