loader

कोवैक्सीन की पहली नहीं, सिर्फ़ दूसरी खुराक मिलेगी: दिल्ली सरकार

वैक्सीन की कमी के बीच दिल्ली सरकार ने कहा है कि फ़िलहाल 18-44 उम्र के लोगों को कोवैक्सीन की पहली खुराक नहीं दी जाएगी। इसने कहा है कि जिन्होंने पहली खुराक ले ली है और दूसरी खुराक का समय पूरा हो गया है, उन्हें ही यह दी जाएगी। दिल्ली सरकार का यह फ़ैसला तब आया है जब कोवैक्सीन की बेहद कमी है। सरकार का कहना है कि उसके पास कोवैक्सीन का स्टॉक ख़त्म हो गया है। ख़बरें तो ऐसी आ रही हैं कि वैक्सीन की कमी के बीच दिल्ली से लोग 100-200 किलोमीटर दूर तक जाकर टीके लगवा रहे हैं। दिल्ली में सत्ताधारी पार्टी आप विधायक अतिशी ने भी यह बात स्वीकार की है।

ताज़ा ख़बरें

अतिशी ने कहा कि 18-44 उम्र के लोग आसपास के शहरों में जाकर टीके लगावाने शुरू कर दिए हैं। पीटीआई से बातचीत में उन्होंने कहा, 'यह एक गंभीर मुद्दा बनता जा रहा है क्योंकि 18-44 समूह के बहुत से लोग दूसरी खुराक के लिए तय तारीख़ के क़रीब हैं। हम यह भी रिपोर्ट सुन रहे हैं कि लोग अपनी खुराक लेने के लिए मेरठ और बुलंदशहर में 100-200 किमी दूर जा रहे हैं क्योंकि यहाँ दिल्ली में कोई टीका उपलब्ध नहीं है।'

इस बीच दिल्ली सरकार ने सभी निजी अस्पतालों और नर्सिंग होम से कहा है कि वे उन लोगों को कोवैक्सीन के टीके नहीं लगाएँ जो पहली खुराक लेने के लिए आ रहे हैं। 

बता दें कि वैक्सीन की कमी को लेकर सुनवाई करते हुए दिल्ली हाई कोर्ट ने इसी हफ्ते कहा था कि कोवैक्सीन की कमी को देखते हुए दिल्ली सरकार को रणनीति पर काम करना चाहिए। दिल्ली सरकार का जो ताज़ा फ़ैसला है उसे इसी संदर्भ में देखा जा सकता है। 

कोवैक्सीन का स्टॉक ख़त्म हो गया है लेकिन कोविशील्ड का स्टॉक बाक़ी है। एक दिन पहले ही रविवार को दिल्ली में क़रीब 58 हज़ार टीके लगाए गए हैं। इसमें से क़रीब 43 हज़ार लोगों को पहली खुराक लगाई गई है और 15 हज़ार लोगों को दूसरी खुराक लगाई गई है।

हालाँकि टीके की भारी कमी है और टीकाकरण की गति काफ़ी धीमी हो गई है। इसको लेकर हाई कोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक निर्देश देते रहे हैं।

दिल्ली हाई कोर्ट ने चार दिन पहले ही केंद्र सरकार से कहा था कि कुछ अधिकारियों पर 'मानवहत्या' का मुक़दमा चलना चाहिए क्योंकि वैक्सीन की कमी के कारण इतनी ज़्यादा मौतें हो रही हैं। कोर्ट ने कहा कि यदि समय पर वैक्सीन लगाई जाती तो कितने लोगों की ज़िंदगियाँ बचाई जा सकती थीं। 

दिल्ली से और ख़बरें

दिल्ली हाई कोर्ट ने यह टिप्पणी तब की थी जब देश की एक कंपनी को वैक्सीन निर्माण के लिए मंजूरी में देरी होने की शिकायत की गई। कोर्ट ने कहा कि देश में इतनी क्षमता है जिसका इस्तेमाल नहीं किया गया है, लेकिन कुछ अधिकारी उस पर कुंडली मार बैठे हैं। इसी संदर्भ में कोर्ट ने कहा कि इसके लिए ऐसे अधिकारियों पर 'मानवहत्या' का मुक़दमा होना चाहिए। गुजरात हाई कोर्ट ने गुजरात सरकार से राज्य में वैक्सीन की कमी पर पूछा था कि क्या वह वैक्सीन ख़रीदने के लिए पांच साल की योजना पर काम कर रही है। 

सुप्रीम कोर्ट ने भी पिछले बुधवार को वैक्सीन नीति को लेकर केंद्र सरकार की जमकर खिंचाई की थी। इसने केंद्र सरकार से कहा था कि 31 दिसंबर, 2021 तक कोरोना टीके की उपलब्धता के बारे में विस्तार से बताए। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें