loader

दिल्ली एम्स में मानव ट्रायल के लिए कोरोना वैक्सीन को हरी झंडी, कल से रजिस्ट्रेशन

देश में निर्मित कोरोना टीका- Covaxin के मानव ट्रायल के लिए अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान यानी एम्स की एथिक्स कमेटी ने हरी झंडी दे दी है। अब इसमें शामिल होने के लिए वॉलंटियर रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। सोमवार से इसका रजिस्ट्रेशन शुरू होगा। सकारात्मक परिणाम आने पर यह देश भर के लोगों के लिए बड़ी राहत की ख़बर होगी। 

फ़िलहाल कोरोना वायरस देश में इतनी तेज़ी से फैल रहा है कि इसे नियंत्रित करना तो दूर, अस्पतालों में मरीज़ों को संभालना भी मुश्किल हो रहा है। कई राज्यों में अस्पतालों में बेड कम पड़ने लगे हैं। बिहार, कर्नाटक सहित कई राज्यों में शिकायतें ऐसी आ रही हैं कि मरीज़ों को अस्पताल में भर्ती कराने में दिक्कतें आ रही हैं।

ताज़ा ख़बरें

अब तो स्थिति इतनी गंभीर हो गई है कि देश में 24 घंटे में ही क़रीब 39 हज़ार पॉजिटिव केस आने लगे हैं। अब तक 10 लाख 77 हज़ार 618 पॉजिटिव केस आ चुके हैं और 26 हज़ार 816 लोगों की मौत हो गई है। अकेले महाराष्ट्र में 3 लाख 937 संक्रमण के मामले आ गए हैं और 11 हज़ार 596 लोगों की मौत हो चुकी है। तमिलनाडु में 1 लाख 65 हज़ार से ज़्यादा और दिल्ली में 1 लाख 21 हज़ार से ज़्यादा केस आ चुके हैं। 

स्थिति ज़्यादा गंभीर इसलिए भी है कि अब तक इसका इलाज नहीं ढूँढा जा सका है। रेमडेसिवीर दवा तो बनी है लेकिन इसका ज़्यादा असर नहीं हो रहा है और मौत के आँकड़ों पर ज़्यादा असर पड़ता नहीं दिखाई दे रहा है। इसीलिए, दुनिया भर में लोगों की उम्मीदें अब कोरोना वैक्सीन पर टिकी हैं। 

दिल्ली एम्स उन 12 संस्थानों में से एक है जिसको Covaxin टीके के मानव पर पहले और दूसरे चरण के ट्रायल के लिए भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद यानी आईसीएमआर द्वारा चुना गया है। 375 वॉलंटियरों पर पहले चरण में ट्रायल किया जाएगा। एक रिपोर्ट के अनुसार एम्स के सेंटर फ़ॉर कम्युनिटी मेडिसिन के प्रोफेसर डॉ. संजय राय ने कहा, 'हम सोमवार से नामांकन प्रक्रिया शुरू कर रहे हैं। हम बिना किसी बीमारी वाले स्वस्थ प्रतिभागियों और जिसे कभी कोविड-19 बीमारी नहीं हुई हो, उसका चयन करने जा रहे हैं।'

देश से और ख़बरें

रिपोर्टों में कहा गया है कि 18 से 55 साल तक के लोगों पर यह ट्रायल किया जाएगा। ट्रायल में भाग लेने के लिए कोई भी व्यक्ति Ctaiims.covid19@gmail.com पर ईमेल भेज सकता है या 7428847499 पर कॉल कर सकता है।

Covaxin भारत का पहला संभावित स्वदेशी Covid-19 वैक्सीन है, जिसे आईसीएमआर और भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड यानी बीबीआईएल द्वारा संयुक्त रूप से विकसित किया गया है। हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक कोविड-19 टीकों पर काम करने वाली सात भारतीय फ़र्मों में से एक है। 

बता दें कि आईसीएमआर व बीबीआईएल के अलावा Zydas Cadila हेल्थकेयर लिमिटेड भी टीके पर काम कर रहा है। इन दो संभावित टीकों को चूहों और खरगोशों पर सफल परीक्षण किया गया और इन आँकड़ों को डीसीजीआई को प्रस्तुत किया गया था। दोनों को इस महीने की शुरुआत में प्रारंभिक चरण के मानव परीक्षण शुरू करने की मंजूरी मिल गई।

बता दें कि दुनिया भर में कई देश और संस्थाएँ वैक्सीन बनाने की प्रक्रिया में हैं। कई जगहों पर मानव पर परीक्षण का दूसरा चरण भी शुरू हो गया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें