loader

ईडी प्रमुख के कार्यकाल विस्तार से 'संवैधानिक प्रक्रिया ध्वस्त हो रही'?

संजय कुमार मिश्रा को 2020 में जब ईडी प्रमुख के तौर पर विस्तार दिया गया था, तब उस पद पर रहते हुए वह ऐसा करने वाले पहले शख्स बने थे। इस साल उनका कार्यकाल तीसरी बार बढ़ाय गया है। इसी को कांग्रेस नेता जया ठाकुर ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है। उन्होंने कहा है कि बार-बार एक्सटेंशन देश की लोकतांत्रिक प्रक्रिया को नष्ट कर रहे हैं। याचिका में केंद्र सरकार पर आरोप लगाया गया है कि यह अपने राजनीतिक विरोधियों के ख़िलाफ़ प्रवर्तन एजेंसियों का दुरुपयोग कर रही है।

ईडी की कार्रवाई को लेकर बीते कई महीनों से हंगामा चल रहा है। तमाम विपक्षी दलों के नेताओं ने आरोप लगाया है कि ईडी मोदी सरकार के इशारे पर उनके नेताओं को परेशान कर रही है। बीते कुछ सालों में विपक्ष के कई नेताओं को ईडी के साथ ही दूसरी जांच एजेंसियां भी समन भेज चुकी हैं और कई बड़े नेताओं की गिरफ्तारी भी हो चुकी है। सोनिया गांधी और राहुल गांधी से नेशनल हेराल्ड मामले में हुई कथित गड़बड़ियों के बारे में ईडी की पूछताछ को लेकर देशभर का सियासी माहौल बेहद गर्म रहा था। कांग्रेस ने ईडी को सरकार की कठपुतली बताया था।

ताज़ा ख़बरें

अंग्रेजी अखबार द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, जांच एजेंसी ईडी ने साल 2014 में मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद से 121 नेताओं के खिलाफ कार्रवाई की है। इन 121 नेताओं में से 115 विपक्षी दलों के नेता हैं। इसका मतलब ईडी के निशाने पर 95 फीसदी विपक्षी नेता रहे जबकि यूपीए सरकार के 2004 से 2014 यानी 10 साल के कार्यकाल में ईडी ने 26 राजनेताओं के खिलाफ जांच की थी और इसमें से 14 राजनेता विपक्षी दलों के थे। यह आंकड़ा 54 फ़ीसदी है।

बहरहाल, साल 2020 में संजय कुमार मिश्रा के कार्यकाल को विस्तार दिया गया था। साल 2021 में उन्हें दूसरा कार्यकाल विस्तार देने से पहले केंद्र सरकार ने जांच एजेंसियों के प्रमुखों के कार्यकाल को बढ़ाने के संबंध में नियमों में संशोधन कर शासनादेश जारी किया था। पहले केंद्रीय एजेंसियों के प्रमुखों का कार्यकाल 2 साल का होता था लेकिन इस संशोधन के बाद वे अपने पद पर 5 साल तक बने रह सकते हैं। 

इसी के तहत संजय कुमार मिश्रा को लगातार तीसरे कार्यकाल के लिए विस्तार दिया गया है। इस पर आपत्ति जताते हुए याचिका दायर की गई है। पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार, याचिका में कहा गया है, 'मिश्रा के कार्यकाल का विस्तार हमारे देश की लोकतांत्रिक प्रक्रिया को नष्ट कर रहा है, इसलिए याचिकाकर्ता द्वारा वर्तमान रिट याचिका दायर की गई है, जिसे न्याय के हित में अनुमति दी जा सकती है।'
देश से और ख़बरें

रिपोर्ट के अनुसार, कांग्रेस नेता ने याचिका में कहा है कि शीर्ष अदालत ने एक विशिष्ट आदेश पारित किया था कि मिश्रा को और कोई विस्तार नहीं दिया जाएगा, लेकिन केंद्र ने उन्हें 17 नवंबर, 2021 से 17 नवंबर, 2022 तक दूसरा विस्तार दिया। इसके बाद उन्होंने एक याचिका दायर की, जिस पर एक नोटिस दिया गया था। याचिका में कहा गया है कि रिट याचिका के लंबित रहने के दौरान, प्रतिवादी को फिर से 18 नवंबर, 2022 से 18 नवंबर, 2023 तक तीसरा विस्तार दिया गया। याचिका में कहा गया है कि इससे पता चलता है कि विस्तार देने वालों का क़ानून के शासन के प्रति कोई सम्मान नहीं है।

द वायर की रिपोर्ट के अनुसार 18 नवंबर को जस्टिस एस.के. कौल ने ईडी निदेशक के लिए पाँच साल तक के विस्तार की अनुमति देने वाले संशोधित क़ानून को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुनवाई से खुद को अलग कर लिया था। इसके एक दिन बाद मिश्रा को एंटी-मनी लॉन्ड्रिंग एजेंसी के प्रमुख के रूप में एक साल का नया विस्तार दिया गया था।

ख़ास ख़बरें

तब कांग्रेस नेताओं- रणदीप सिंह सुरजेवाला और जया ठाकुर, और टीएमसी की महुआ मोइत्रा और साकेत गोखले द्वारा दायर याचिकाओं सहित याचिकाओं का एक समूह पीठ के समक्ष सुनवाई के लिए आया था।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें