loader

आज के माहौल में हमें दरगाह क्यों जाना चाहिये?

दरगाहों पर जाकर केवल ऐसे सूफी संतों का सम्मान किया जाता है, उनकी पूजा नहीं की जाती है। मैं नास्तिक हूँ और किसी भी चीज़ की पूजा नहीं करता, लेकिन मैं अक्सर दरगाहों (जैसे अजमेर दरगाह, निज़ामुद्दीन चिश्ती दरगाह, आदि) में जाता हूँ उन सूफियों का सम्मान करने लिए जिन्होंने समाज में प्रेम, सहिष्णुता, भाईचारा और करुणा  फैलायी।
जस्टिस मार्कंडेय काटजू

हिंदू आमतौर पर मसजिदों में नहीं जाते और मुसलमान आमतौर पर मंदिरों में नहीं जाते। लेकिन दोनों जिन जगहों पर जाते हैं उन्हें दरगाह कहते हैं। वास्तव में भारत में दरगाहों में आमतौर पर मुसलमानों की तुलना में अधिक हिंदू जाते हैं। इसीलिए मैं अक्सर दरगाहों पर जाता हूँ, क्योंकि वे सभी समुदायों के लोगों को एकजुट करते हैं।

दरगाह सूफी संतों की कब्रों पर बने समाधि हैं। वहाबियों जैसे कट्टरपंथी लोग दरगाहों को मूर्तिपूजा (बुत परस्ती) मानते हैं, क्योंकि वे कहते हैं कि दरगाहों में कब्रों की पूजा की जाती है, जबकि इसलाम में केवल अल्लाह की पूजा की अनुमति है। इसीलिए सऊदी अरब, जो वहाबियों द्वारा शासित, में किसी भी दरगाह की अनुमति नहीं हैI पाकिस्तान में, जबकि बड़ी संख्या में मुसलमान दरगाहों (जैसे बाबा फ़रीद की दरगाह) में जाते हैं, और कई बार कट्टर उग्रवादी दरगाहों पर बमबारी करते हैं।

ख़ास ख़बरें

यह एक ग़लत धारणा है कि दरगाहों में सूफी संतों की कब्रों की पूजा की जाती है। सूफी संतों ने सभी धर्मों के लोगों के भाईचारे, सहिष्णुता और सभी मनुष्यों के प्रति दया के संदेश को फैलाया था। इसलिए दरगाहों पर जाकर केवल ऐसे सूफी संतों का सम्मान किया जाता है, उनकी पूजा नहीं की जाती है। मैं नास्तिक हूँ और किसी भी चीज़ की पूजा नहीं करता, लेकिन मैं अक्सर दरगाहों (जैसे अजमेर दरगाह, निज़ामुद्दीन चिश्ती दरगाह, आदि) में जाता हूँ उन सूफियों का सम्मान करने लिए जिन्होंने समाज में प्रेम, सहिष्णुता, भाईचारा और करुणा  फैलायीI

मेरी पसंदीदा दरगाह अजमेर में हज़रत मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह है, जिसे मैंने अक्सर देखा है, क्योंकि महान मुग़ल बादशाह अकबर, जिन्होंने सुलह -ए-कुल के सिद्धांत का प्रचार किया था, जिसका मतलब है सभी धर्मों को समान सम्मान देना। 

मैं कई अन्य दरगाहों पर भी जाता हूँ। उदाहरण के लिए दिल्ली में निज़ामुद्दीन औलिया दरगाह, लखनऊ के निकट देवा शरीफ, हरिद्वार के निकट कलियर शरीफ, चेन्नई में सैय्यद हज़रत मूसा शाह कादरी की दरगाह (जो कि मैं अक्सर जाता था जब मैं मद्रास उच्च न्यायालय का मुख्य न्यायाधीश था) आदि।

सूफी संत की वार्षिक पुण्यतिथि, जिसे उर्स कहते हैं, को शोक नहीं, बल्कि एक जश्न के रूप में दरगाहों में मनाया जाता है, क्योंकि यह माना जाता है कि उस दिन संत भगवान में विलीन हो गये थे।

दरगाहों में लंगरों (मुफ्त दावतों) में शाकाहारी भोजन परोसा जाता है, उन हिंदुओं के सम्मान के लिए, जिनमें से कई शाकाहारी हैं।

देखिए वीडियो, क्या मुसलमान हैं तो संस्कृत नहीं पढ़ा सकते?

कव्वाली आध्यात्मिक संगीत का एक रूप है, जिसे अक्सर दरगाहों में गाया जाता है। फतेहपुर सीकरी में शेख सलीम चिश्ती की दरगाह में (और अन्य दरगाहों में भी) मैंने राम और कृष्ण जैसे हिंदू देवताओं की प्रशंसा में मुसलिम गायकों को कव्वाली संगीत गाते सुना। यह दरगाहों की धर्मनिरपेक्ष प्रकृति को भी दर्शाता है।

आज के माहौल में, जब कुछ लोग भारतीय समाज को धार्मिक तर्ज पर फूट डालने की कोशिश कर रहे हैं, वहाँ दरगाह हमें राह दिखाती हैं और सभी को एक एकजुट रहने की सीख देती हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
जस्टिस मार्कंडेय काटजू
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें