loader
फ़ोटो साभार: ट्विटर/अमित शाह

हैदराबाद: बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बन कर उभरेगी?

सांप्रदायिकता हमेशा हैदराबाद में मौजूद थी, लेकिन इस GHMC चुनाव ने इसे एक नए स्तर पर बढ़ा दिया है। बीजेपी के प्रचारकों ने ओवैसी को एक और जिन्ना कहा और भड़काऊ भाषण देते हुए 'इन पाकिस्तानियों और गंदे रोहिंग्याओं को बाहर निकालने' का आह्वान किया। साथ ही, बिहार चुनाव में AIMIM के 5 उम्मीदवारों की जीत ने समाज में और अधिक ध्रुवीकृत कर दिया है।
जस्टिस मार्कंडेय काटजू

ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम के चुनाव 1 दिसंबर को हो रहे हैं और मेरी भविष्यवाणी यह है कि वर्तमान में केवल 150 में से 4 सीटें रखने वाली बीजेपी इन चुनावों में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरेगी। हालाँकि यह केवल एक नगरपालिका चुनाव है। बीजेपी के कई दिग्गज और सितारे, अमित शाह, नड्डा, स्मृति ईरानी, योगी आदित्यनाथ, फड़नवीस, तेजस्वी सूर्या आदि को प्रचार अभियान में लगाया गया है और लगभग एक राष्ट्रीय चुनाव बना दिया है।

भारतीय संविधान भारत को एक धर्मनिरपेक्ष देश घोषित करता है, लेकिन ज़मीनी हक़ीक़त बहुत अलग है। धर्मनिरपेक्षता औद्योगिक समाज की एक विशेषता है, लेकिन भारत अभी भी अर्ध सामंती है। अधिकांश हिंदू, जो देश की आबादी का लगभग 80% और अधिकांश मुसलिम जो लगभग 14% हैं, दोनों ही सांप्रदायिक हैं।

2014 में केंद्र में बीजेपी के सत्ता में आने से पहले भी भारत में सांप्रदायिकता व्यापक रूप से फैली हुई थी, लेकिन कुछ हद तक इसे कांग्रेस और अन्य धर्मनिरपेक्ष दलों द्वारा काबू में रखा गया था, इसलिए नहीं कि उन्हें मुसलमानों के लिए वास्तविक सहानुभूति थी, बल्कि इसलिए कि इन दलों की नज़र मुसलिम वोट बैंक पर थी। इसलिए 2014 से पहले हालाँकि सांप्रदायिकता हमेशा मौजूद थी और सांप्रदायिक घटनाएँ केवल छिटपुट थीं। 2014 के बाद हमारे समाज में व्यापक रूप से ध्रुवीकरण हुआ है, और सांप्रदायिकता और ज़्यादा खुली, विषैली  और अविरल हो गई है।

एक उदाहरण है - पश्चिम बंगाल में जो कुछ हुआ। यह राज्य लम्बे समय तक धर्मनिरपेक्षता का गढ़ रहा। लेकिन अब वहाँ ध्रुवीकरण हो गया है। बीजेपी जो पहले लगभग मौजूद नहीं थी, आज राज्य में वह गहरे सेंध लगा रही है। ग्रेटर हैदराबाद में भी कुछ ऐसा ही होने की संभावना है।

ग्रेटर हैदराबाद नगर निगम यानी GHMC में 4 ज़िले शामिल हैं, और इसके क्षेत्र में 4 सांसद और 24 विधान सभा सीटें हैं। इसमें लगभग 18 लाख (1.8 मिलियन) मतदाता हैं, जिनमें से लगभग 4 लाख मुसलिम हैं, जो ज़्यादातर पुराने हैदराबाद शहर में हैं, जो AIMIM नेता ओवैसी का गढ़ है। मुसलमान ज़्यादातर AIMIM को वोट देंगे, लेकिन बाक़ी 14 लाख लोगों का क्या जो ज़्यादातर हिंदू हैं?

ख़ास ख़बरें

बीजेपी की ताक़त बढ़ी!

GHMC में 150 सीटें हैं, जिनमें से 2016 के चुनावों में केसीआर की टीआरएस को 99, AIMIM को 44, बीजेपी को 4 और कांग्रेस को 2 सीटें मिलीं। इसलिए ऐसा लगता है कि ज़्यादातर हिंदुओं ने टीआरएस को वोट दिया। लेकिन तब से स्थिति बदल गई है। 2018 के तेलंगाना राज्य विधानसभा चुनावों में बीजेपी को 119 सीटों में से केवल 1 मिली 7% वोट  के साथI लेकिन 2019 के लोकसभा चुनावों में बीजेपी को राज्य में 19% मतों के साथ तेलंगाना में 17 लोकसभा सीटों में से 4 मिले। इस प्रकार केवल एक वर्ष में बीजेपी समर्थकों में बहुत बढ़ोतरी हुई है और ऐसा लगता है कि कई टीआरएस हिंदू समर्थक बीजेपी में चले गए हैं।

सांप्रदायिकता हमेशा हैदराबाद में मौजूद थी, लेकिन इस GHMC चुनाव ने इसे एक नए स्तर पर बढ़ा दिया है। बीजेपी के प्रचारकों ने ओवैसी को एक और जिन्ना कहा और भड़काऊ भाषण देते हुए 'इन पाकिस्तानियों और गंदे रोहिंग्याओं को बाहर निकालने' का आह्वान किया।

साथ ही, बिहार चुनाव में AIMIM के 5 उम्मीदवारों की जीत ने समाज में और अधिक ध्रुवीकृत कर दिया है।

पश्चिम बंगाल और तमिलनाडु के चुनाव अगले साल मई में होने वाले हैं, इसलिए बीजेपी ने आने वाले समय के लिए GHMC चुनाव को परीक्षण के रूप में इस्तेमाल किया है, और कहीं भी किसी तरह की कोई कसर नहीं छोड़ रही है।

दिलचस्प समय आगे है। देखना यह होगा कि बीजेपी अपने मक़सद में कितना कामयाब होगी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
जस्टिस मार्कंडेय काटजू
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

तेलंगाना से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें