loader

देश को बदल सकता है किसान आंदोलन!

किसान आंदोलन हकीकत में आर्थिक मुद्दे पर आधारित है। किसानों को उनकी उपज के लिए पर्याप्त पारिश्रमिक नहीं मिल रहा है। यह राम मंदिर बनाने जैसे भावनात्मक और भावुक मुद्दे जैसा नहीं है। इसे भारत के लगभग 75  करोड़ किसानों का समर्थन प्राप्त है, हालांकि ज़ाहिर है कि ये सभी दिल्ली के पास इकट्ठा नहीं हो सकते हैं। 
जस्टिस मार्कंडेय काटजू

भारतीय लोगों का राष्ट्रीय उद्देश्य एक अविकसित देश से पूर्णतः विकसित, अत्यधिक औद्योगीकृत देश में बदलना होना चाहिए, तभी हम अपनी ग़रीबी, पिछड़ेपन, बड़े पैमाने पर बेरोज़गारी, बाल कुपोषण के भयावह स्तर, उचित स्वास्थ्य सेवा की लगभग पूरी कमी, जनता के लिए अच्छी शिक्षा का अभाव और अन्य कई सामाजिक बुराइयों से छुटकारा पा सकते हैं।

इस तरह का परिवर्तन केवल एक ऐतिहासिक शक्तिशाली एकजुट लोगों के जनसंघर्ष के माध्यम से ही संभव है, जो सामंती सोच और प्रथाओं (जैसे- जातिवाद, सांप्रदायिकता, अंधविश्वास आदि) की सारी गंदगी को मिटा देगा, जो भारत में सदियों से एकत्र हुए हैं और फिर एक राजनीतिक और सामाजिक व्यवस्था का निर्माण करेगा जिसके तहत भारत तेज़ी से औद्योगिकीकरण की ओर बढ़ेगा  और लोगों को उच्च जीवन स्तर के साथ सभ्य और समृद्ध जीवन मिलेगा। 

ताज़ा ख़बरें

जाति-धर्म का झगड़ा

लेकिन इस तरह के एकजुट लोगों का जनसंघर्ष कैसे हो सकता है और इसका आरम्भ कैसे किया  जा सकता है? हमारे लोग जाति और धर्म के आधार पर इतने विभाजित और ध्रुवीकृत हैं कि एकता, जो इस संघर्ष के लिए नितांत आवश्यक है, अब तक गायब थी और हम अक्सर जाति और धर्म के आधार पर एक-दूसरे से लड़ रहे थे। 

किसानों के आंदोलन पर देखिए वीडियो- 

काफी समय तक भारत में अधिकांश आंदोलन या तो धर्म आधारित थे जैसे- राम मंदिर आंदोलन या जाति आधारित जैसे - गुर्जर, जाट या दलित आंदोलन। सीएए विरोधी आंदोलन को मुख्य रूप से मुसलिम आंदोलन माना जाता है। भ्रष्टाचार के खिलाफ अन्ना हज़ारे का आंदोलन जल्द ही ठंडा पड़ गया I

यही वह समस्या थी जिसके बारे में भारतीय विचारकों को दशकों तक कोई हल नहीं मिला और यह देश के लिए एक दुविधा बन गयी।

Kisan andolan in delhi a democratic movement - Satya Hindi

अचानक, आकाश से बिजली  की तरह, भारत के किसानों ने, जो हमारे समाज के सबसे उपेक्षित वर्गों में से एक हैं, उस समस्या को हल किया है जिसने लंबे समय से देश को दुविधा में डाल रखा था। अपनी रचनात्मकता का उपयोग करके उन्होंने हमारे लोगों के बीच एकता कायम की है जो दशकों से गायब थी। उनके आंदोलन ने जाति और धर्म की बाधाओं को तोड़ दिया है, और वे इन सब चीज़ों से ऊपर उठ गए हैं। इसके अलावा इन लोगों ने हमारे राजनेताओं से दूरी बना रखी है। 

ये वो वर्ग है जो देश से सच्चा प्रेम नहीं करता। ये वर्ग केवल सत्ता और धन उपार्जन में रुचि रखता है और जो केवल केवल वोट बैंक बनाने के लिए जाति और सांप्रदायिक घृणा फैलाकर भारतीय समाज का ध्रुवीकरण करता आया है।

विचार से और ख़बरें

किसान आंदोलन हकीकत में आर्थिक मुद्दे पर आधारित है। किसानों को उनकी उपज के लिए पर्याप्त पारिश्रमिक नहीं मिल रहा है। यह राम मंदिर बनाने जैसे भावनात्मक और भावुक मुद्दे जैसा नहीं है। इसे भारत के लगभग 75  करोड़ किसानों का समर्थन प्राप्त है, हालांकि ज़ाहिर है कि ये सभी दिल्ली के पास इकट्ठा नहीं हो सकते हैं। 

इसके अलावा, इन्हें भारतीय सेना, अर्ध सैनिक बलों, और पुलिसकर्मियों का भी मौन समर्थन प्राप्त है, क्योंकि इनमें से अधिकांश वर्दीधारी किसान हैं, या किसानों के बेटे हैं। 

यह एक चिंगारी है, जो जल्द ही पूरे देश में आग लगा सकती है जैसा कि चीनी क्रांति में हुआ और उस पराक्रमी ऐतिहासिक परिवर्तन की प्रक्रिया शुरू कर सकती है जिसकी आज भारत को एक अविकसित से अति विकसित देश में परिवर्तित होने के लिए ज़रूरत है।

जैसा कि एक महान एशियाई नेता ने कहा, “जब करोड़ों किसान आंधी या तूफ़ान की तरह उठेंगे तो यह एक ऐसी ताकत होगी जो इतनी शक्तिशाली और इतनी तेज़ होगी कि पृथ्वी पर कोई भी शक्ति इसका सामना नहीं कर सकेगी।”

भारतीय किसान इतिहास रच रहे हैं, ये नेताओं को समझना होगा। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
जस्टिस मार्कंडेय काटजू
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें