loader

सिस्टर भगिनी निवेदिता: वो महिला जिसने सिखाया प्लेग महामारी से लड़ना

19वीं सदी के अंत और 20वीं सदी की शुरुआत के कई वर्षों तक प्लेग ने देश के कई नगरों, महानगरों में कहर ढाया था। लेकिन हर जगह उसका असर अलग-अलग था। यह बहुत कुछ इस पर भी निर्भर था कि शहर, उसके लोगों और वहां के संगठनों ने महामारी पर कैसी प्रतिक्रिया दी। इस दौरान देश के दो महानगरों मुंबई और कोलकाता में जो फर्क दिखा, आज के कोरोना काल में उससे बहुत कुछ सीखा जा सकता है।

यह ठीक है कि 1896 में प्लेग सबसे पहले मुंबई में पहुंचा। लेकिन कुछ ही महीनों में यह पूरे देश में फैल गया। मुंबई में इसे लेकर काफी उग्र प्रतिक्रिया हुई, सरकार की तरफ से भी और उसके जवाब में जनता की तरफ से भी। इसे लेकर जनता में जागरूकता फैलाने के बजाए उस पर सरकारी आदेशों के पालन का दबाव बनाया गया। 

प्लेग के दौरान सरकार ने लोगों को बचाने के लिए जो सख्ती दिखाई, कई जगह वह महामारी से भी ज्यादा खतरनाक साबित हुई।

मरीजों को जब परिवार से अलग करके अस्पतालों में भर्ती किया जाने लगा तो लोगों ने मान लिया कि उन्हें मारने के लिए अस्पताल में ले जाया जा रहा है। इसके बाद शहर में कई जगह दंगे हुए और अस्पतालों पर हमले हुए। महामारी का खतरा पीछे रह गया और कानून-व्यवस्था की समस्या ज्यादा बड़ी हो गई।

ताज़ा ख़बरें

रामकृष्ण मिशन ने किया जागरूक 

मुंबई के विपरीत कोलकाता में लोगों को इसे लेकर जागरूक करने का बीड़ा रामकृष्ण मिशन ने उठाया। स्वामी विवेकानंद ने इसके लिए बांग्ला और हिंदी में प्लेग का घोषणापत्र लिखकर यह समझाया कि जब महामारी का खतरा मंडरा रहा हो तो उन्हें क्या करना चाहिए। इस संदेश को लोगों तक पहुंचाने का जिम्मा संभाला भगिनी निवेदिता ने, जो प्लेग पर बनी रामकृष्ण मिशन की कमेटी की सचिव भी बनाई गईं थीं। 

भगिनी निवेदिता मूल रूप से आयरलैंड की नागरिक थीं और वहां उनका नाम था - मार्गरेट एलिजाबेथ नोबेल। स्वामी विवेकानंद से प्रभावित होकर वह भारत आईं और रामकृष्ण मिशन में शामिल हो गईं, जहां पर उन्हें निवेदिता नाम दिया गया।

जब प्लेग फैलने की ख़बरें आनी शुरू हुईं तो भगिनी निवेदिता ने युवाओं से आगे आकर सामाजिक कार्य में शामिल होने की अपील की। वह नौजवानों की टोली बनाकर कोलकाता के ग़रीबों की बस्तियों में जातीं। वहां वह पर्चे बांटतीं और लोगों को सफाई का संदेश देतीं। 

भगिनी निवेदिता लोगों को समझाने के लिए प्लेग पर भाषण भी देतीं। इतना ही नहीं, उनकी टोली गलियों और सड़कों वगैरह की खुद सफाई भी करती। उन्होंने नर्स बनकर अस्पतालों में प्लेग के मरीजों की सेवा भी की और यहीं से उन्हें सिस्टर निवेदिता भी कहा जाने लगा।

सफाई में जुट गए लोग 

जल्द ही इसका असर भी दिखा और लोगों ने समस्या को समझना शुरू कर दिया। सड़कें और गलियां साफ होनी शुरू हुईं तो लोग अपने घरों के भीतर की सफाई भी खुद ही करने लगे। जिस समय मुंबई के गरीबों की बस्तियों में लोगों के घरों का सामान निकाल कर बाहर फेंका और जलाया जा रहा था, उस समय कोलकाता के लोग स्वच्छता के महत्व को समझते हुए इसके लिए कोशिश कर रहे थे।

इंडियन मेडिकल गैजेट ने 1948 में कोलकाता और मुंबई के प्लेग का एक तुलनात्मक अध्ययन किया। इसमें पाया गया कि जिस वर्ष कोलकाता में प्लेग के मरीजों की संख्या सबसे ज्यादा थी तब भी वह मुंबई के मुकाबले एक तिहाई ही थी।

कोलकाता में प्लेग न सिर्फ कम लोगों को अपना शिकार बना पाया बल्कि वहां मृत्यु दर भी मुंबई के मुकाबले काफी कम रही। 1926 में कोलकाता से प्लेग का पूरी तरह सफाया हो गया जबकि मुंबई को इससे मुक्ति के लिए एक दशक तक और इंतजार करना पड़ा। यह सब तब हुआ जब उस दौर के कोलकाता की बसावट मुंबई के मुकाबले कहीं ज्यादा घनी थी। 

विचार से और ख़बरें
कोलकाता अगर प्लेग से ज्यादा अच्छी तरह निपट सका तो इसका बहुत बड़ा श्रेय रामकृष्ण मिशन और सिस्टर निवेदिता को जाता है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
हरजिंदर
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें