loader

कोरोना काल में योगी सरकार के ख़िलाफ़ शिकायतें कर रहे बीजेपी नेता 

ये बात सही है कि उत्तर प्रदेश की आबादी 24 करोड़ है लेकिन इस तर्क से यहां की सरकार को इस मामले में नहीं बख़्शा जा सकता कि वह कोरोना से निपटने में फ़ेल रही है। बड़ा प्रदेश है तो मशीनरी भी बड़ी है, ज़्यादा सरकारी अमला है, ज़्यादा हाथ हैं। उत्तर प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर के बदइंतजामों पर आम लोगों की नाराज़गी तो आपने देखी ही, बीजेपी के नेता भी कई बार खुलकर योगी सरकार के ख़िलाफ़ नाराज़गी जता चुके हैं। 

यहां ये भी याद रखना होगा कि बीते एक साल में कोरोना से बीजेपी के कई सांसद-विधायकों व पार्टी पदाधिकारियों को जान से हाथ धोना पड़ा है। बीते 15 दिनों में ही उत्तर प्रदेश बीजेपी के चार विधायकों की कोरोना के चलते मौत हुई है। 

ताज़ा ख़बरें

उत्तर प्रदेश में बदइंतजामी को लेकर अब आवाज़ उठाई है केंद्रीय मंत्री और बहुत वरिष्ठ नेता संतोष सिंह गंगवार और लखीमपुर खीरी के विधायक लोकेंद्र प्रताप सिंह ने। इससे पहले लखनऊ मध्य के विधायक और मंत्री बृजेश पाठक ने बदइंतजामियों को लेकर सरकार को चेताया था। 

गंगवार ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर कहा है कि बरेली में ऑक्सीजन की कमी है और वेंटिलेटर्स सहित कई चिकित्सा उपकरणों की कालाबाजारी हो रही है।

गंगवार ने पत्र में लिखा है कि स्वास्थ्य विभाग के अफ़सर फ़ोन नहीं उठाते, जिससे कोरोना के मरीजों के लिए हालात मुश्किल बनते जा रहे हैं। उन्होंने लिखा है कि बरेली के अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट्स और कोरोना के मरीजों को रेफ़र किए जाने की प्रक्रिया को और सरल बनाए जाने की ज़रूरत है। 

विधायक लोकेंद्र प्रताप सिंह ने मुख्यमंत्री को चिट्ठी लिखी में कहा है कि वे चाह कर भी अपने लोगों को नहीं बचा पा रहे हैं। विधायक ने लिखा है कि ऐसा कोई गांव नहीं हैं, जो कोरोना की चपेट में न हो और लखीमपुर जनपद में ऑक्सीजन की बहुत कमी है और इस वजह से लोग मर रहे हैं। 

यूपी में कोरोना को लेकर बने हालात पर देखिए चर्चा- 

मोहनलालगंज से सांसद कौशल किशोर ने भी लखनऊ प्रशासन पर आरोप लगाया था कि कोरोना के मरीजों की मदद करने के लिए जिन अधिकारियों को जिम्मेदारी दी गई है, उसमें से अधिकांश लोगों के फोन बंद हैं और लोगों को सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं। 

इसी तरह फिरोज़ाबाद जिले के जसराना से बीजेपी विधायक रामगोपाल उर्फ पप्पू लोधी ने वीडियो जारी कर कहा है कि उनकी पत्नी को बहुत मुश्किल से एक अस्पताल में बेड मिला है और यहां बहुत ही ख़राब हालात हैं। लोधी की पत्नी को कोरोना हुआ है। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

पिछले महीने मंत्री ब्रजेश पाठक ने अपर मुख्य सचिव (स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा) को पत्र लिखकर अस्पतालों, एंबुलेंस, जांचों की खस्ता हालत का जिक्र किया था। पाठक ने पत्र में लिखा था कि लखनऊ के मुख्य चिकित्साधिकारी का पहले तो फोन तक नहीं उठता था और अब जो उठने लगा तो सुनवाई नहीं होती है। 

इसके अलावा भी कुछ और नेता लगातार बदइंतजामियों की शिकायत स्थानीय स्तर पर कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश में हुए पंचायत चुनावों ने हालात बेहद गंभीर कर दिए हैं। कोरोना को लेकर भी और बीजेपी के भविष्य को लेकर भी। 

जब सत्ता में बैठी पार्टी के विधायक-सांसद, पदाधिकारियों को स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं तो आम लोगों का इस कोरोना में क्या हाल है, इसका अंदाजा लगाने की ज़रूरत नहीं है, सोशल मीडिया से लेकर टीवी-अख़बारों में सब छप-दिख चुका है, छप-दिख रहा है।

कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए उत्तर प्रदेश में लंबा लॉकडाउन लगाया गया है लेकिन बावजूद इसके हालात बहुत नहीं सुधरे हैं। कोरोना काल की ये बदइंतजामियां, लापरवाही अगले विधानसभा चुनाव में बीजेपी को भारी पड़ सकती हैं, यह कहने से इनकार नहीं किया जा सकता। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें