loader
प्रतीकात्मक तसवीर।फ़ोटो साभार: ट्विटर/कोलीविले पुलिस

पाक आतंकवादी की रिहाई के लिए अमेरिकी सिनगॉग में बंधक, सभी छुड़ाए गए

अमेरिका के टेक्सास में एक सिनगॉग में हथियारों से लैस शख्स द्वारा बंधक बनाए गए सभी लोगों को छुड़ा लिया गया है। टेक्सास की कोलीविले पुलिस ने इसकी पुष्टि की है। इसके साथ ही बंधक बनाने वाले उस हथियारबंद शख्स को मार गिराया गया है। उस शख्स ने कथित तौर पर पाकिस्तानी आतंकवादी की रिहाई के लिए कुछ लोगों को बंधक बना लिया था। अमेरिकी अधिकारियों ने कहा है कि राष्ट्रपति को इस घटना की जानकारी दी गई है। राष्ट्रीय सुरक्षा के अधिकारी भी बंधकों को छुड़ाने और इस घटना की तहकीकात में लगे थे।

टेक्सास के सिनगॉग यानी यहूदियों का प्रार्थना-गृह में यह घटना शनिवार को घटी। मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि प्रार्थना के दौरान लोगों को बंधक बना लिया गया। बंधक बनाने वाले को एक लाइवस्ट्रीम में चीखते हुए और एक पाकिस्तानी न्यूरोसाइंटिस्ट की रिहाई की मांग करते हुए सुना गया। उस पाकिस्तानी को अफगानिस्तान में अमेरिकी सेना के अधिकारियों को मारने की कोशिश करने का दोषी ठहराया गया है।

ताज़ा ख़बरें
न्यूज़ एजेंसी एपी ने सरकारी एजेंसियों के अधिकारियों के हवाले से कहा है कि शुरू में कम से कम चार लोगों के बंधक बनाए जाने की सूचना थी। अधिकारियों में से एक ने कहा कि माना जाता है कि बंधकों में सिनगॉग के रब्बी (धार्मिक गुरु) भी शामिल हैं। अधिकारियों में से एक ने कहा था कि उस शख्स ने सशस्त्र होने का दावा किया है लेकिन अधिकारियों ने इसकी पुष्टि नहीं की कि वह हथियारों से लैस है या नहीं।एएफ़पी की रिपोर्ट के अनुसार, टेक्सास के कोलीविले पुलिस ने शुरुआत में कहा था कि बंधकों में से एक को बिना किसी खरोंच के ही रिहा करा दिया गया। पुलिस के एक बयान में कहा गया, 'इस व्यक्ति को जल्द से जल्द उसके परिवार से मिलवा दिया जाएगा और उसे चिकित्सकीय सहायता की ज़रूरत नहीं है।'
कोलीविले पुलिस ने भारतीय समय के अनुसार सुबह 9 बजकर 26 मिनट पर ट्वीट किया है, '9:55 बजे (रात) का अपडेट: कोलीविले में SWAT स्थिति का समाधान हो गया है और सभी बंधक सुरक्षित हैं। हम सभी जानकारियों को अंतिम रूप देने के लिए एफबीआई के साथ काम कर रहे हैं। हम एक अपडेट के साथ रात 10:15 बजे गुड शेफर्ड कैथोलिक चर्च में मीडिया को संबोधित करेंगे।'
इससे पहले व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने ट्वीट कर कहा है, 'अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन को डलास क्षेत्र में बंधक स्थिति में जो हो रहा है, उसके बारे में जानकारी दी गई है। स्थिति जैसी बनती है, इस पर उन्हें अपनी वरिष्ठ टीम से अपडेट मिलते रहेंगे। राष्ट्रीय सुरक्षा दल के वरिष्ठ सदस्य भी संघीय कानून लागू करने वाली एजेंसियों के प्रमुखों के संपर्क में हैं।'
बता दें कि सिनगॉग में चल रहे अनुष्‍ठानों का फेसबुक पर सीधा प्रसारण किया जा रहा था। इसी दौरान एक शख्‍स वहां बंदूक लेकर घुस आया। हालाँकि, लाइवस्‍ट्रीम में यह नहीं दिखा कि वहां क्‍या हो रहा है, लेकिन उस शख्‍स के जोर-जोर से चिल्‍लाने की आवाजें आईं। कथित रूप से बंदूकधारी ने पाक आतंकवादी को रिहा करने का ज़िक्र किया।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें