loader

मुख्यमंत्री पद के लिए एनडीए करेगा फ़ैसला: नीतीश कुमार

बिहार विधानसभा चुनाव नतीजे आने के बाद चौथी बार मुख्यमंत्री बनाए जाने की अटकलों के बीच नीतीश कुमार ने कहा है कि उन्होंने इस पद के लिए कोई दावा नहीं किया है। उन्होंने साफ़ किया है कि इस पर एनडीए फ़ैसला लेगा। उन्होंने कहा है कि शुक्रवार को एनडीए के घटक दल बैठक करेंगे। नीतीश कुमार के इस बयान से अब उन अकटलों को और बल मिल सकता है जिनके बारे में कई रिपोर्टों में कहा जा रहा था कि नीतीश कुमार मुख्यमंत्री बनने के अनिच्छुक हैं। 

सम्बंधित ख़बरें

बिहार विधानसभा चुनाव में एनडीए के नतीजे ही कुछ ऐसे आए हैं कि नीतीश कुमार के सामने असहज सी स्थिति पैदा हो गई लगती है। एनडीए ने चुनाव में बहुमत हासिल किया है और 125 सीटें जीती हैं। इसने नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री के तौर पर पेश किया था लेकिन इनकी पार्टी सिर्फ़ 43 सीटें ही पा सकी है जबकि गठबंधन में सबसे बड़ा दल बीजेपी बनकर उभरी है। बीजेपी ने 74 सीटें जीती हैं। नतीजे आने के बाद भले ही बीजेपी का आलाकमान कह रहा है कि नीतीश मुख्यमंत्री होंगे, लेकिन बीजेपी के कई नेता इससे अलग बयान दे रहे हैं। नीतीश कुमार पर एक दबाव यह भी है कि मैनडेट उनके ख़िलाफ़ है तो वह कैसे मुख्यमंत्री बनेंगे। 

आरजेडी नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने भी उनपर यह कहकर निशाना साधा है कि यदि उनमें थोड़ी भी नैतिकता बची है तो उन्हें मुख्यमंत्री पद को छोड़ देना चाहिए। 

हालाँकि इस बीच ये भी रिपोर्टें आ रही हैं कि बीजेपी के वरिष्ठ नेता नीतीश कुमार को मनाने में जुटे हुए हैं कि वह मुख्यमंत्री का पद ग्रहण करें। रिपोर्टों में यह भी कहा जा रहा है कि मुख्यमंत्री बनने पर उन्हें फ़ैसले लेने में पूरी आज़ादी होगी।

माना जा रहा है कि नीतीश कुमार की सबसे ज़्यादा नाराज़गी चिराग पासवान के रूख़ को लेकर है। चुनाव में चिराग पासवान की पार्टी एलजेपी ने नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू के उम्मीदवारों वाली सभी सीटों पर प्रत्याशी उतारे थे। चिराग पासवान के रूख़ को लेकर बीजेपी पर हमला होता रहा है कि उसने ही उन्हें उकसाया है और वह नीतीश के ख़िलाफ़ इस्तेमाल कर रही है। जेडीयू नेता भी शायद यही मानते हैं लेकिन ख़राब प्रदर्शन के बाद वे भी ज़्यादा कुछ नहीं कर सकते। 

बिहार चुनाव पर देखिए आशुतोष की बात...

नीतीश कुमार के सामने एक और चुनौती है। वह जानते हैं कि इस बार राज्य में सरकार चलाना उनके लिए आसान नहीं होगा। क्योंकि बीजेपी ज़्यादा ताक़तवर है, इसलिए मलाईदार महकमों पर वह अपना हक़ जताएगी। इससे भी बड़ा कारण दोनों दलों की विचारधारा में अंतर है। लोकसभा चुनाव जीतने के बाद से ही बीजेपी उग्र हिंदुत्व के एजेंडे पर तेज़ी से क़दम बढ़ा रही है। 

राम मंदिर निर्माण की नींव रखने ख़ुद पीएम मोदी का जाना इस बात को साफ करता है कि बीजेपी हिंदू मतों की अकेली झंडाबरदार बनना चाहती है। लेकिन नीतीश के साथ उसका टकराव बना रहेगा क्योंकि धारा 370, तीन तलाक़, सीएए-एनआरसी को लेकर जेडीयू का रूख़ बीजेपी से अलग है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें