loader
फ़ोटो ग्रैब- प्रसार भारती वीडियो

दिल्ली: उमड़ी भीड़, लक्ष्मी नगर में 5 जुलाई तक दुकानें बंद रखने का आदेश

कोरोना संक्रमण की पहली और दूसरी लहर से बुरी तरह प्रभावित रही दिल्ली बीते दिनों में तेज़ी से अनलॉक की ओर बढ़ी है। दुकान, रेस्तरां, मॉल और बाज़ारों को फिर से खोला गया तो लोग उमड़ पड़े और हालात ऐसे हो गए कि फिर से बाज़ारों को बंद करना पड़ा है। बाज़ारों में उमड़ती भीड़ पर दिल्ली हाई कोर्ट ने भी चिंता जताई थी। 

जमुनापार बसने वाली दिल्ली के लक्ष्मी नगर इलाक़े के बाज़ारों में भी हालात बेहद ख़राब हो चले थे। ये इलाक़ा बेहद घनी आबादी वाला है और यहां संकरी गलियां और इन्हीं के अंदर कई बाज़ार लगते हैं। लॉकडाउन के कारण घर में बंद होकर बोर हो चुके लोग ढील मिलते ही बाहर निकल आए। 

ताज़ा ख़बरें

बाज़ारों में भीड़ उमड़ने पर सोशल डिस्टेंसिंग हवा हो गई और फिर से यह ख़तरा दिखने लगा कि ऐसे में तो कोरोना की तीसरी लहर आ जाएगी इसलिए लक्ष्मी नगर में बाज़ारों को 5 जुलाई तक बंद रखने का फ़ैसला किया गया है। 

पूर्वी दिल्ली जिले के प्रशासन का कहना है कि पिछले रविवार को बाज़ार में बड़ी संख्या में लोग आए थे और दुकानदारों के लिए कोरोना प्रोटोकॉल का पालन कराना मुश्किल हो गया था और ऐसे में फिर से कोरोना का संक्रमण बढ़ सकता था। 

जिला प्रशासन ने जो आदेश जारी किया है उसमें लिखा है कि लक्ष्मी नगर के मुख्य बाज़ार से लक्ष्मी पब्लिक स्कूल, किशनकुंज और इससे लगने वाले बाज़ारों जैसे- मंगल बाज़ार, विजय चौक, सुभाष चौक, जगतराम पार्क, गुरू रामदास नगर के लिए यह निर्देश दिया जाता है कि इन जगहों पर 5 जुलाई या उससे अगले आदेश तक दुकानें बंद रहेंगी। 

हालांकि इस दौरान ज़रूरी सामानों वाली दुकानें खुली रहेंगी। जिला प्रशासन ने कहा है कि लक्ष्मी नगर की मुख्य बाज़ार की मार्केट एसोसिएशन कोरोना की गाइडलाइंस का पालन करने में फ़ेल रही है। 

इस साल कोरोना महामारी की दूसरी लहर में जब संक्रमण के मामले बढ़े तो राजधानी में 19 अप्रैल से सख़्त लॉकडाउन लगा दिया गया था, यह लॉकडाउन 29 मई तक चला। जब संक्रमण के मामलों में गिरावट आई तो धीरे-धीरे छूट दी गई और अब दिल्ली लगभग खुल चुकी है। 

दिल्ली से और ख़बरें

दिल्ली हाई कोर्ट चिंतित 

दिल्ली के बाज़ारों में लोगों की भीड़ से दिल्ली हाई कोर्ट भी चिंतित है और उसने इसे लेकर सख़्त नाराज़गी भी जताई है। हाई कोर्ट ने कुछ दिन पहले कहा था कि कोरोना प्रोटोकॉल के टूटने से इस महामारी की तीसरी लहर जल्दी आ जाएगी, जिसके आने की संभावना है और ऐसा नहीं होने दिया जा सकता। 

हाई कोर्ट ने कहा था कि कोरोना प्रोटोकॉल को तोड़े जाने की यह आदत अगर जारी रहती है तो हम लोग बड़ी मुसीबत में फंस जाएंगे और अगर ऐसा होता है तो फिर ईश्वर ही हमारी मदद करे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें