loader
फ़ाइल फ़ोटो

औरंगाबाद का नाम बदलने को लेकर कांग्रेस-शिव सेना में रार

महाराष्ट्र की महा विकास अघाडी सरकार में शामिल कांग्रेस और शिव सेना के रिश्ते बीते कुछ दिनों से ठीक नहीं चल रहे हैं। सरकार में शामिल एक और दल एनसीपी के मुखिया शरद पवार को यूपीए अध्यक्ष बनाने की जोरदार हिमायत करने वाली शिव सेना को इसे लेकर कांग्रेस की ओर से जवाब भी मिला है। अब ताज़ा विवाद औरंगाबाद शहर के नाम को बदलने को लेकर खड़ा हुआ है। 

महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष और राजस्व मंत्री बाला साहेब थोराट ने शिव सेना की इस मांग का विरोध किया है। शिव सेना लंबे वक़्त से मांग करती रही है कि औरंगाबाद का नाम संभाजीनगर रख दिया जाए। पिछले साल जनवरी में राज्य के प्रशासन ने इस संबंध में सरकार को अपनी रिपोर्ट सौंपी थी। 

ताज़ा ख़बरें

कांग्रेस करेगी विरोध 

थोराट कुछ दिन पहले ग्राम पंचायत के चुनाव प्रचार के लिए औरंगाबाद में आए थे। तब उन्होंने कहा था कि महा विकास अघाडी सरकार के सामने औरंगाबाद का नाम संभाजी नगर रखने का कोई प्रस्ताव नहीं आया है। थोराट ने कहा था कि कांग्रेस ऐसे किसी भी क़दम का घोर विरोध करेगी। उन्होंने कहा था कि सरकार न्यूनतम साझा कार्यक्रम के हिसाब से ही चलेगी। उन्होंने यह भी कहा था कि नाम बदलने से शहर का विकास नहीं हो सकता। 

थोराट ने कहा था, ‘महा विकास अघाडी में शामिल दल आम सहमति से ही कोई फ़ैसला लेते हैं। कुछ बिंदुओं पर मतभेद हो सकते हैं लेकिन हम न्यूनतम साझा कार्यक्रम का पालन करेंगे।’ 

सोनिया गांधी की जगह शरद पवार के मुद्दे पर देखिए वीडियो- 

बीजेपी भी कूदी

बीजेपी भी इस मामले में कूद गई है। महाराष्ट्र बीजेपी के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने कहा है कि औरंगाबाद का नाम बदलना कोई राजनीतिक मुद्दा नहीं है बल्कि यह आस्था का सवाल है। बीजेपी ने कहा है कि शिव सेना को अपने पुराने स्टैंड पर कायम रखना चाहिए। 

पुरानी है मांग

शिव सेना संस्थापक बाला साहेब ठाकरे ने सबसे पहले 1988 में औरंगाबाद का नाम संभाजी नगर रखने का प्रस्ताव रखा था। 1995 में जब औरंगाबाद नगर निगम में शिव सेना-बीजेपी सत्ता में थे, तब इस शहर का नाम बदलने का प्रस्ताव पास किया गया था। शिव सेना नेता मनोहर जोशी के मुख्यमंत्री रहते हुए सरकार की ओर से इसे लेकर नोटिफ़िकेशन भी जारी किया गया था। 

छत्रपति संभाजी महाराज एक मराठा योद्धा थे। औरंगाबाद का नाम मुगल बादशाह औरंगज़ेब के नाम पर रखा गया था। 

शिव सेना कट्टर हिंदुत्व की राजनीति के लिए जानी जाती है जबकि कांग्रेस सेक्युलर राजनीति के लिए। ऐसे में जब से महा विकास अघाडी की सरकार बनी है, तभी से यह सवाल उठता है कि आख़िर यह सरकार कब तक चलेगी।

यूपीए अध्यक्ष को लेकर विवाद

शिव सेना ने कुछ दिन पहले ही कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूपीए पर हमला बोला था। पार्टी ने अपने मुखपत्र सामना में कहा था कि यूपीए को देखकर ऐसा लगता है कि यह एक एनजीओ है और एनसीपी को छोड़कर इसमें शामिल बाक़ी दलों को देखकर लगता है कि वे किसान आंदोलन को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

सामना में शिव सेना ने आगे कहा था कि शरद पवार राष्ट्रीय स्तर पर एक ताक़तवर शख़्सियत हैं और यहां तक कि प्रधानमंत्री मोदी भी उन्हें सुनते हैं और उनके अनुभवों से सीख लेते हैं। यह भी कहा था कि राहुल गांधी व्यक्तिगत रूप से जोरदार संघर्ष करते रहते हैं और उनकी मेहनत बखान करने जैसी है लेकिन कहीं तो कुछ कमी ज़रूर है

पिछले साल के आख़िरी महीनों में जब शरद पवार ने कहा था कि राहुल गांधी में एकाग्रता की कमी है, तब कांग्रेस की ओर से इस पर सख़्त एतराज जताया गया था और इसे लेकर भी कई तरह की चर्चाएं राजनीतिक गलियारों में हुई थीं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें