loader
रुझान / नतीजे चुनाव 2022

हिमाचल प्रदेश 68 / 68

बीजेपी
30
कांग्रेस
35
अन्य
3

गुजरात 182 / 182

बीजेपी
152
कांग्रेस
20
आप
6
अन्य
4

चुनाव में दिग्गज

दाभोलकर-पानसरे की हत्या की जांच के मामले में क्या राजनीतिक दबाव में हैं एजेंसियां?

एक बार फिर अदालत ने महाराष्ट्र पुलिस को खरी-खोटी सुनाई है। पिछले दो-तीन सालों से जिस तरह से अदालत महाराष्ट्र पुलिस पर टिप्पणियां कर रही है, वह साधारण नहीं है और सवाल यह उठता है कि क्या पुलिस इतनी लापरवाह हो गयी है या राजनीतिक दबाव उसकी जांच प्रक्रिया को पंगु कर रहा है। डॉ. नरेंद्र दाभोलकर-गोविंद पानसरे की हत्या की जांच का मामला हो, भीमा कोरेगांव और उससे उपजे शब्द अर्बन नक्सल का प्रकरण हो, सनातन संस्था के ख़िलाफ़ चल रही जांच हो या महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक का मामला जिसमें उप मुख्यमंत्री अजीत पवार सहित कई और राजनेता आरोपी हैं, इन सभी मामलों में अदालत ने ना सिर्फ जांच एजेंसियों के कामकाज पर उँगली उठाई है, उन्हें फटकार भी लगाई है कि वे मामलों की जांच क्यों नहीं कर रही हैं? 

गुरुवार को मुंबई उच्च न्यायालय ने एक बार फिर अंधश्रद्धा निर्मूलन संस्था के संस्थापक डॉ. नरेंद्र दाभोलकर और कामरेड गोविंद पानसरे की हत्या की जांच के मामले में गठित विशेष जांच दल (एसआईटी) की जांच को लेकर तीव्र नाराजगी जताई। अदालत ने कहा कि इन दोनों प्रकरण को क्रमशः सात और पांच साल हो गए हैं लेकिन इन मामलो में मुक़दमे की शुरुआत अब तक नहीं हुई है? कोर्ट ने कहा कि कब तक ऐसा ही चलता रहेगा? आख़िर कब मुक़दमे शुरू होंगे?

अदालत ने सीबीआई और एसआईटी, दोनों की जांच पर असंतोष जताया और कहा कि वे 24 मार्च तक यह स्पष्ट करें कि इस प्रकरण में मुक़दमा कब से शुरू होगा।
न्यायमूर्ति सत्यरंजन धर्माधिकारी और न्यायमूर्ति रियाज छागला ने जांच एजेंसियों से कहा कि आप लोग इन हत्याकांडों में प्रयुक्त हुए हथियार ही अब तक ढूंढ रहे हैं, कम से कम यह तो बता दें कि यह मामला आगे कैसे बढ़ेगा? अदालत ने कहा कि दाभोलकर-पानसरे परिवार के अलावा इस मामले में जो लोग जेल में हैं यह उनके भी मूलभूत हक़ की बात है कि उनको कब तक क़ैद में रखा जाय? उन्हें भी अपने आपको निर्दोष साबित करने का हक़ तो मिलना चाहिए या नहीं? 
ताज़ा ख़बरें

अदालत ने कहा कि आप अपनी जांच की वजह से अदालत की कार्य प्रणाली को असफल बनाने की कोशिश नहीं करें। उल्लेखनीय है कि दाभोलकर और पानसरे के परिवार वालों ने इन हत्याकांडों की जांच पर असंतोष जताते हुए उच्च न्यायालय में याचिका दायर की है। गुरुवार को इसी याचिका पर सुनवाई के दौरान अदालत ने ये सख्त टिप्पणियां कीं। 

जांच क्यों नहीं आगे बढ़ा रही पुलिस?

लेकिन यह पहली बार नहीं है जब अदालत ने ऐसा कहा है। इस मामले में अदालत ने एक-दो नहीं कई बार पुलिस की जांच प्रक्रिया को आड़े हाथों लिया और इसीलिए यह सवाल गहराता जा रहा है कि आख़िर क्या मजबूरी है कि पुलिस बार-बार अदालत की डांट सुनने के बाद भी जांच को आगे नहीं बढ़ा रही है? उल्लेखनीय है कि अप्रैल 2019 में इस मामले में हाई कोर्ट ने राजनीतिक दलों को सलाह दी थी कि वे, 'विरोध की आवाजों को दबने ना दें'। बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा था, ‘देश में कोई भी संस्थान सुरक्षित नहीं है, भले ही वह न्यायपालिका ही क्यों न हो। अधिकारी इस जांच को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं, दाभोलकर और पानसरे की हत्या की जांच में और देरी बर्दाश्त नहीं की जाएगी।’ 

दाभोलकर-पानसरे मामले में अदालत ने यह भी अहसास दिलाया था कि किस तरह से कर्नाटक पुलिस इसी प्रकार के गौरी लंकेश हत्याकाण्ड में आरोपियों तक पंहुचकर उन्हें गिरफ्तार कर पूरी साजिश का पटाक्षेप कर चुकी है और महाराष्ट्र पुलिस या सम्बंधित जांच एजेंसियां इस बात को लेकर समय बर्बाद कर रही हैं कि दाभोलकर पर जो गोलियां दागी गई हैं, उन्हें जांच के लिए स्कॉटलैंड यार्ड के पास भेजा जाए या गुजरात। बड़ी बात यह है कि कुछ महीनों बाद जांच एजेंसियां न्यायालय को बताती हैं कि स्कॉटलैंड यार्ड और भारत के बीच इस बात पर कोई करार न होने की वजह से गोलियों की जांच गुजरात में होगी। 

अदालत ने जांच एजेंसियों से पूछा था कि क्या अधिकारियों के बीच सामंजस्य की कमी है या फिर अधिकारियों ने अपनी जांच मात्र मोबाइल फ़ोन रिकॉर्ड तक सीमित कर दी है। सबसे गंभीर बात तो यह है कि यह सब तब हो रहा है जब पूरे मामले की जांच कोर्ट की निगरानी में हो रही है।

पिछली सुनवाई में अदालत ने तत्कालीन मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को फटकार लगाते हुए कहा था कि राजनीतिक दलों और उनके प्रमुखों को परिपक्वता दिखानी चाहिए और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि तर्कवादियों नरेंद्र दाभोलकर और गोविंद पानसरे की हत्याओं की जांच में कोई बाधा पैदा नहीं हो। अंधश्रद्धा के ख़िलाफ़ अलख जगाने वाले महाराष्ट्र अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति के संस्थापक नरेन्द्र दाभोलकर की पुणे में 20 अगस्त, 2013 को उस समय गोली मारकर हत्या कर दी गई थी जब वह सुबह की सैर के लिए निकले थे। सीपीएम नेता और तर्कवादी पानसरे की 16 फरवरी, 2015 को पश्चिमी महाराष्ट्र में कोल्हापुर स्थित उनके आवास के पास गोली मार कर हत्या कर दी गयी थी। 

इसके अलावा 30 अगस्त, 2015 को एमएम कलबुर्गी की कर्नाटक के धारवाड़ में और 5 सितंबर, 2017 को मशहूर पत्रकार और लेखिका गौरी लंकेश की बेंगलुरू स्थित उनके आवास पर हत्या कर दी गयी थी। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें
दाभोलकर की हत्या की जांच हाई कोर्ट की निगरानी में चल रही है। राज्य पुलिस और सीआईडी द्वारा जांच में लेटलतीफी पाए जाने पर हाई कोर्ट ने मई, 2014 में यह जांच सीबीआई को सौंप दी थी। लेकिन अभी भी कुछ ठोस निकलकर सामने नहीं आया है। ऐसे ही हालात भीमा  कोरेगांव मामले की जांच को लेकर भी हैं। महाराष्ट्र में सत्ता परिवर्तन के बाद इस प्रकरण की जांच नए सिरे से शुरू हो पाती तब तक केंद्र सरकार ने इसकी जांच एनआईए को दे दी। इसे लेकर भी कई सवाल उठ रहे हैं।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजय राय
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें