loader

भीमा कोरेगाँव: क्या दलित नए मिथक गढ़ेगा?

भीमा कोरेगांव में महारों के शौर्य के 200वें जलसे के दौरान हुई हिंसा के बहाने हिंदुत्ववादी ताकतें मानवाधिकार कार्यकर्ताओं और बुद्धिजीवियों का दमन करने पर उतारू हैं। पूरी दुनिया के साहित्यकारों और बुद्धिजीवियों ने इन मानवाधिकार कार्यकर्ताओं पर जेल में होने वाली क्रूरता की निंदा की है। लेकिन दमन का सिलसिला थम नहीं रहा है।
रविकान्त

भीमा कोरेगांव का विजय स्मारक आज दलित स्वाभिमान और शौर्य का प्रतीक है। प्रतिवर्ष 1 जनवरी को पूरे देश से दलित यहां पहुंचकर पेशवा के ख़िलाफ़ महारों की वीरता और शौर्य का जश्न मनाते हैं। भीमा कोरेगांव सदियों तक होने वाले दलितों के दमन के प्रतिशोध का प्रतीक बन गया है। 1 जनवरी, 1818 को अंग्रेजों की तरफ से लड़ते हुए महार रेजीमेंट के सैनिकों ने पेशवा बाजीराव द्वितीय की भारी-भरकम फौज को परास्त किया था। 

पुणे से महज 19 किलोमीटर दूर भीमा नदी के किनारे कोरेगांव में होने वाले इस युद्ध में शहीद हुए महारों सहित अनेक योद्धाओं के नाम इस शिला स्तंभ पर दर्ज हैं। 

गौरतलब है कि अंग्रेजों द्वारा किए गए तमाम युद्धों में केवल यही एक युद्ध है जिसका जश्न आज भी मनाया जाता है। निश्चित तौर पर इस युद्ध का इतिहास अंग्रेजी साम्राज्य के विस्तार से ज्यादा महारों की वीरता और उनकी शहादत से जुड़ा है।

पेशवाओं के हाथ में सत्ता

औरंगजेब की मृत्यु (1707)  के बाद मुगल साम्राज्य कमजोर हो गया। देसी राज्यों पर उसकी पकड़ ढीली होती गई। महाराष्ट्र में मराठे धीरे-धीरे मुगलिया सल्तनत से आजाद हो गए। 1713 में शाहूजी मराठा राज्य के छत्रपति बने। उन्होंने एक चितपावन ब्राह्मण बालाजी विश्वनाथ को मराठा राज्य का पाँचवां पेशवा घोषित किया। इसके बाद पेशवाओं ने मराठा राज्य पर वास्तविक नियंत्रण स्थापित कर लिया। यानी मराठा राज्य की शक्ति ब्राह्मण पेशवाओं के हाथ में नियंत्रित हो गई। 

ताज़ा ख़बरें

दलितों के प्रति अत्याचार 

माना जाता है कि ब्राह्मण पेशवाओं ने अपने राज्य में वर्ण व्यवस्था और मनु संहिता को कड़ाई से लागू किया। परिणामस्वरूप अछूतों को थूकने के लिए गले में मटकी और पैरों के निशानों की सफाई के लिए कमर के पीछे झाड़ू बांधना अनिवार्य था। अछूतों के साथ होने वाली अमानवीयताओं की दास्तान को अनेक अंग्रेज इतिहासकारों और यात्रियों ने दर्ज किया है। 

गौरतलब है कि इस दरमियान भारत में विदेशी शक्तियां भी सक्रिय थीं। पुर्तगाली, डच और फ्रांसीसियों के बाद आए अंग्रेजों को भारत में पहले व्यापार और इसके बाद साम्राज्य विस्तार का मौका मिला। अंग्रेजों ने भारत में राजाओं की आपसी फूट ही नहीं बल्कि सामाजिक विषमताओं का भी भरपूर फायदा उठाया। 

पेशवा सेना को हराया 

फ्रांसिस स्टोन्टा के नेतृत्व में अंग्रेजी सेना ने मराठा राज्य पर हमला किया। 1 जनवरी, 1818 को भीमा नदी के तट पर पेशवा और अंग्रेजों के बीच युद्ध हुआ। अंग्रेजों के अग्रिम मोर्चे पर बांबे नेटिव इन्फेन्ट्री तैनात थी। इसमें करीब 800 सैनिक थे, जिसमें  500 महार सैनिक थे। महार सैनिकों की इस छोटी टुकड़ी ने 28000 सैनिकों वाली शक्तिशाली पेशवा सेना को केवल 12 घंटे में परास्त कर दिया। अंग्रेजों ने इस स्थान पर एक विजय स्मारक बनाया। इसमें शहीद हुए सैनिकों के नाम दर्ज हैं।

अंग्रेजी साम्राज्य के ख़िलाफ़ हुए 1857 के विद्रोह के बाद अंग्रेजों ने जाति आधारित रेजीमेंट को खत्म करने का फैसला किया। 1893 में अंग्रेजों ने महार रेजीमेंट को भंग कर दिया। तब महारों की पहली पीढ़ी के नेताओं ने भीमा कोरेगांव युद्ध की याद दिलाते हुए अंग्रेजों से महार रेजीमेंट को बहाल करने की अपील की। इन नेताओं में गोपाल बाबा वेलिंगकर, शिवराम जानवा कांबले और डॉ. आंबेडकर के पिता रामजी सकपाल शामिल थे। आगे चलकर 1927 में बाबा साहब डॉ. आंबेडकर ने भीमा कोरेगांव जाकर शहीद महारों को श्रद्धांजलि दी। इसके बाद वे निरंतर विजय स्मारक पर जाते रहे। 

डॉ.आंबेडकर ने ही भीमा कोरेगांव में दलितों की वीरता और शौर्य के जलसे की शुरुआत की थी। उन्होंने भीमा कोरेगाँव युद्ध जीतने वाले महार सैनिकों की वीरता के प्रति दलितों को प्रेरित किया। उन्होंने इस लड़ाई को जातीय उत्पीड़न के विरुद्ध महारों की जीत के रूप में पेश किया।

प्रोफेसर आनंद तेलतुंबड़े का विचार

प्रोफेसर आनंद तेलतुंबड़े आंबेडकर द्वारा कही गयी भीमा कोरेगांव की युद्ध कथा को एक मिथक कहते हैं। उन्होंने लिखा, “जब आंबेडकर ने भीमा कोरेगांव की लड़ाई को पेशवा शासन के जातीय उत्पीड़न के ख़िलाफ़ महार सैनिकों के युद्ध के रूप में पेश किया था, तब वे असल में एक मिथक पेश कर रहे थे। जैसा कि किसी भी आंदोलन को खड़ा करने के लिए मिथकों की जरूरत होती है। हो सकता है उन्हें उस समय इसकी जरूरत लगी हो।” प्रोफेसर आनंद तेलतुंबड़े का मानना है कि दलितों की पहचान से जुड़ा, इतिहास का यह मिथक चिंता का विषय हो सकता है।

दिलचस्प है कि प्रोफेसर आनंद की यह चिंता निराधार साबित नहीं हुई। आज वे स्वयं इसके परिणाम भुगत रहे हैं। बीजेपी और आरएसएस के हिंदुत्व का मुकाबला करने के लिए भीमा कोरेगांव युद्ध के 200 साल पूरे होने पर एक बड़े जश्न का आयोजन किया गया। इसके लिए यलगार परिषद नाम से एक आयोजन समिति बनाई गई।  

दरअसल, 31 दिसंबर 2017 को 'भीमा कोरेगांव शौर्य दिन प्रेरणा अभियान' के बैनर तले कई संगठनों ने मिलकर एक रैली आयोजित की। इसका नाम यलगार परिषद रखा गया।
शनिवार वाडा मैदान पर होने वाली रैली में 'लोकतंत्र, संविधान और देश बचाने' की आवाज बुलंद की गई। दिवंगत दलित छात्र रोहित वेमुला की मां राधिका वेमुला ने रैली का उद्घाटन किया। इस रैली में प्रकाश आंबेडकर, हाई कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश बीजी कोलसे पाटिल, गुजरात के विधायक जिग्नेश मेवानी, जेएनयू के छात्र उमर खालिद और आदिवासी एक्टिविस्ट सोनी सोरी आदि मौजूद थे। रैली में कबीर कला मंच द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश किए गए। 
इस सांस्कृतिक कार्यक्रम और रैली की आड़ में हिंदुत्ववादियों ने अगले दिन के भव्य आयोजन को हिंसक बना दिया। आयोजन में शामिल होने वालों पर पथराव किया गया। उनकी गाड़ियों को आग लगा दी गई। भीमा कोरेगांव के अतिरिक्त कई दूसरे गांवों में भी हिंसा हुई।

भिड़े-मिलिंद एकबोटे पर आरोप 

आयोजकों का आरोप है कि संघ प्रचारक और शिव प्रतिष्ठान के संस्थापक संभाजी भिड़े और मिलिंद एकबोटे के इशारे पर सुनियोजित ढंग से दलितों और वामपंथी कार्यकर्ताओं पर हिंसा की गई। हिंसा पर काबू पाने के लिए पुलिस को आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े। भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज  किया। इस हिंसा में एक व्यक्ति की मौत हो गई और कई लोग घायल हो गए। 

विचार से और ख़बरें
इसके बाद हिंदुत्ववादियों का जो पैटर्न है, ठीक वही हुआ। यलगार परिषद और भीमा कोरेगांव जलसे के आयोजनकर्ताओं के ख़िलाफ़ मामला दर्ज किया गया। रोना विल्सन को प्रमुख आरोपी बनाया गया। एनआईए की जांच में भीमा कोरेगांव हिंसा को नक्सली और पाकिस्तान की साजिश करार दिया गया। 
bhima koregaon Dalit Victory Over Peshwas - Satya Hindi

दमन की कार्रवाई 

वामपंथी साहित्य के आधार पर सामाजिक और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं को आरोपी बनाया गया। इन आरोपियों में मानवाधिकार कार्यकर्ता सुधा भारद्वाज, प्रोफेसर आनंद तेलतुंबड़े, दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रोफेसर हनी बाबू, प्रसिद्ध कन्नड़ कवि वरवरा राव, झारखंड के फादर स्टेन स्वामी सहित कई नामचीन हस्तियों पर यूएपीए लगाकर जेल में डाल दिया गया। उन्हें भीमा कोरेगाँव हिंसा का साजिशकर्ता बताया गया।

एनआईए ने सामाजिक कार्यकर्ता गौतम नवलखा पर पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के साथ संबंधों का आरोप लगाया। एक पत्र के हवाले से इन बुद्धिजीवियों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हत्या की साजिश रचने के आरोप भी लगाया गया।

वरवरा राव, स्टेन स्वामी की प्रताड़ना

इन बुद्धिजीवियों और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं को जेल में भी प्रताड़ित किया जा रहा है। विदित है कि जेल में वरवरा राव को कोरोना हुआ लेकिन उन्हें उपचार नहीं दिया गया। उनके वकील द्वारा मामले को उठाए जाने पर ही उनका इलाज किया गया। गौतम नवलखा का जेल में चश्मा खो गया था। उनके घर से पार्सल द्वारा भेजे गए चश्मे को जेल प्रशासन ने वापस कर दिया। 83 साल के फादर स्टेन स्वामी पार्किंसन की बीमारी से पीड़ित हैं। उनके हाथ कांपते रहते हैं। चाय पीने के लिए स्ट्रा और सिपर की मांग को भी जेल प्रशासन ने खारिज कर दिया।

भीमा कोरेगांव में महारों के शौर्य के 200वें जलसे के दौरान हुई हिंसा के बहाने हिंदुत्ववादी ताकतें मानवाधिकार कार्यकर्ताओं और बुद्धिजीवियों का दमन करने पर उतारू हैं।

पूरी दुनिया के साहित्यकारों और बुद्धिजीवियों ने इन मानवाधिकार कार्यकर्ताओं पर जेल में होने वाली क्रूरता की निंदा की है। लेकिन दमन का सिलसिला थम नहीं रहा है। अब सवाल है कि हिंदुत्व का मुकाबला कैसे किया जाए। 

प्रोफेसर आनंद तेलतुंबड़े के शब्दों में, “दलितों को हिंदुत्व के ठेकेदारों की बनाई गई इस पेशवाई से लड़ने की जरूरत है। इसके लिए एक मिथकीय अतीत में अपनी महानता की कल्पना के बजाय आंखें खोलकर वास्तविकता का सामना करने की जरूरत है।” 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
रविकान्त
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें