loader

कोरोना: कर्मचारी काम पर क्यों नहीं जा रहे, क्या सिर्फ़ वायरस का ही डर?

यदि महाराष्ट्र के पालघर में तीन लोगों की हत्या-जैसी हृदय विदारक घटनाएँ हो रही हैं तो देश में कई जगह हमारे पुलिस, अफ़सर, डाॅक्टर, नर्स वगैरह अपनी जान पर खेलकर लोगों की जान बचा रहे हैं। आम लोगों से यही उम्मीद है कि वे अपने दिल से मौत का डर निकाल दें। अपने मन को बुलंद रखें। कोरोना के ख़िलाफ़ पूरी सावधानी रखें और अपने काम में जुट जाएँ।
डॉ. वेद प्रताप वैदिक

अब तालाबंदी में ढील की घोषणा तो हो गई लेकिन ज़मीनी असलियत क्या है? लोगों में मौत का डर इतना गहरा बैठ गया है कि कारखानेदार, दुकानदार और बड़े अफ़सर अपने कर्मचारियों को अपने दफ्तरों में बुला रहे हैं लेकिन वे आने को ही तैयार नहीं हैं। चंडीगढ़ में हरियाणा सरकार के ऊँचे अफ़सर अपनी-अपनी कुर्सी पर कल आ बैठे लेकिन बाबू लोग ग़ायब हैं। नागरिक भी आस-पास नहीं दिखाई पड़ रहे हैं। 

दिल्ली के पास के कुछ गाँवों में बड़े-बड़े कारख़ाने हैं लेकिन उनके मालिकों को यही समझ में नहीं आ रहा है कि उन्हें चालू कैसे करें। एक गाँव के कारख़ानों में 22 हज़ार मज़दूर काम करते हैं लेकिन उनमें से कल सौ भी दिखाई नहीं पड़े। उनमें से ज़्यादातर तो अपने गाँवों में भाग गए हैं। वे अब वापस कैसे आएँ? न रेल चल रही है, न बसें। जो मज़दूर कारख़ानों से 5-10 किमी की दूरी में रहते हैं, वे कैसे पैदल आएँ-जाएँ और पुलिस के ग़ुस्से से कैसे बचें? 

ताज़ा ख़बरें

जो प्रवासी मज़दूर रास्तों में फँसे हुए हैं, उनके लिए कोटा के छात्रों की तरह या तो उनके गाँवों या उनके कारख़ानों की तरफ़ लौटने का इंतज़ाम तुरंत किया जाना चाहिए। उन 10 हज़ार छात्रों में से एक भी कोरोना का मरीज़ नहीं निकला है। उत्तर प्रदेश और राजस्थान ने सही रास्ता पकड़ा है। यह समस्या सारे भारत में है। इसके अलावा जो कुछ जगहें खोली गई हैं, उनमें इतनी ज़्यादा भीड़ टूटी पड़ रही है कि पुलिसवाले घबरा रहे हैं। बैंकों, सब्जी मंडियों और सड़क-नाकों पर लगी भयंकर भीड़ कोरोना को बुलाती-सी लग रही है। 

लोगों की सहूलियत के लिए सरकार ने ये ढील दी है लेकिन डर यही है कि लोग-बाग ढील के इस रस्से को ही न उखाड़ डालें।

इसी दृष्टि से केरल ने कल जो ज़रूरत से ज़्यादा ढील दे दी थी, वह वापस ले ली है। उसने भोजनशालाएँ, होटलें, रेस्तराँ वगैरह बंद कर दिए हैं। केंद्र सरकार ने ज़िला-स्तर पर जाँच के लिए समितियाँ बना दी हैं। राज्य सरकारें, चाहे जिस पार्टी की हों, उन्हें इस कार्य में सहयोग करना चाहिए। देश में कोरोना की मार धीरे-धीरे शिथिल हो रही है। 

विचार से ख़ास
दिल्ली, मुंबई, जयपुर, इंदौर- जैसे शहरों में स्थानीय सरकारें काफ़ी मुस्तैदी दिखा रही हैं। यदि महाराष्ट्र के पालघर में तीन लोगों की हत्या-जैसी हृदय विदारक घटनाएँ हो रही हैं तो देश में कई जगह हमारे पुलिस, अफ़सर, डाॅक्टर, नर्स वगैरह अपनी जान पर खेलकर लोगों की जान बचा रहे हैं। आज भी कोरोना से लड़ने में भारत दुनिया में सबसे आगे है। आम लोगों से यही उम्मीद है कि वे अपने दिल से मौत का डर निकाल दें। अपने मन को बुलंद रखें। कोरोना के ख़िलाफ़ पूरी सावधानी रखें और अपने काम में जुट जाएँ।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
डॉ. वेद प्रताप वैदिक
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें