loader

क़रीबी संपर्क ही नहीं, हवा में भी दूर तक संक्रमित करता है कोरोना: 239 वैज्ञानिक

वैज्ञानिकों ने शोध में दावा किया है कि छोटे कण में भी कोरोना वायरस दूसरों को संक्रमित कर सकता है। यानी कोरोना वायरस सिर्फ़ कोरोना मरीज़ के क़रीबी संपर्क में आने से ही नहीं, बल्कि यह हवा में भी दूर तक संक्रमित कर सकता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन पहले कह चुका है कि कोरोना वायरस मुख्य रूप से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है जब कोरोना मरीज़ खाँसता, छींकता है या उसकी नाक बहती है।

वैज्ञानिकों ने कहा है कि जब कोरोना मरीज़ खाँसता या छींकता है तो इसके साथ मुँह के निकलने वाले बड़े ड्रॉपलेट यानी बड़े कण ही नहीं बल्कि इसके छोटे कण भी दूसरों को संक्रमित कर सकते हैं। इसे सामान्य भाषा में कहें तो अब तक कहा जाता रहा है कि कोरोना मरीज़ के छींकने पर एक मीटर दूर रहने पर संक्रमण का ख़तरा कम होता है, लेकिन नये शोध के अनुसार, एक कमरे भर की दूरी पर भी साँस लेने वालों को संक्रमित कर सकता है।

ताज़ा ख़बरें

न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, दुनिया के 32 देशों के 239 वैज्ञानिकों ने संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी विश्व स्वास्थ्य संगठन को एक खुला पत्र लिखा है और कहा है कि वह कोरोना संक्रमण को लेकर जारी की गई सलाह में संशोधन करे। इसने छोटे कण से संक्रमण फैलने के ख़तरे के बारे में बताया है। ये शोधकर्ता अगले हफ़्ते विज्ञान की किसी पत्रिका में इस शोध को प्रकाशित कराने वाले हैं। 

न्यूयॉर्क टाइम्स के अनुसार, वैज्ञानिकों ने कहा कि चाहे छींक के बाद बड़े कण हवा में छितराते हैं या फिर छोटे कण एक कमरे की लंबाई तक फैलते हैं तो कोरोना वायरस हवा के माध्यम से भी दूसरों को संक्रमित कर सकता है। इस रिपोर्ट के अनुसार, यदि ख़राब वेंटिलेशन के साथ भीड़-भाड़ वाले स्थानों में महामारी फैलती है तो हवा के माध्यम से संक्रमण फैलना एक महत्वपूर्ण कारक हो सकता है। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के बावजूद घर के अंदर भी मास्क पहनने की ज़रूरत हो सकती है। स्वास्थ्य कर्मियों को एन95 मास्क की आवश्यकता हो सकती है जो साँस के छोटे-छोटे कण को भी छान लेते हैं।

शुरू से ही कोरोना वायरस को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन समय-समय पर दिशा-निर्देश और सलाह जारी करता रहा है। दुनिया भर के अधिकतर देश उसी दिशा-निर्देशों के तहत कोरोनाा के ख़िलाफ़ लड़ाई लड़ रहे हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के वैज्ञानिक इससे बचाव, उपचार के साथ-साथ इस महामारी से निपटने के तौर-तरीक़ों पर बुलेटिन भी जारी करता रहा है। यही कारण है कि 239 वैज्ञानिकों ने डब्ल्यूएचओ के पास अपना शोध भेजा है ताकि वह इन निर्देशों को जारी करे जिससे अधिक से अधिक लोग इस संदर्भ में सावधानियाँ बरत सकें। डब्ल्यूएचओ ने अभी तक इन वैज्ञानिकों के शोध पर कुछ विशेष प्रतिक्रिया नहीं दी है। हालाँकि इतना ज़रूर कहा है कि अभी तक हवा से संक्रमण फैलने का कोई ठोस सबूत नहीं मिला है। 

डब्ल्यूएचओ में संक्रमण की रोकथाम और नियंत्रण की तकनीकी विभाग की डॉ. बेनेडेटा अल्लेग्रांजी ने न्यूयॉर्क टाइम्स से कहा है कि पिछले कुछ महीनों में हम कई बार कहते रहे हैं कि हम एयरबोर्न ट्रांसमिशन को संभव मानते हैं लेकिन निश्चित रूप से इसके ठोस या स्पष्ट प्रमाण नहीं हैं।

दुनिया से और ख़बरें
बता दें कि दुनिया भर में संक्रमण अभी भी कम नहीं हो रहा है। कई देशों में तो यह काफ़ी तेज़ी से फैलता जा रहा है। दुनिया भर में 1 करोड़ 14 लाख से ज़्यादा संक्रमण के मामले आ चुके हैं और 5 लाख 33 हज़ार मौतें हुईं। सिर्फ़ अमेरिका में 28 लाख 88 हज़ार पॉजिटिव केस आ चुके हैं और 1 लाख 29 हज़ार मौतें हुईं। ब्राज़ील में 16 लाख 3 हज़ार संक्रमण के मामले आए और 64 हज़ार लोगों की मौतें हुईं। भारत में करीब 7 लाख संक्रमण के मामले आए हैं और 19 हज़ार से ज़्यादा मौतें हुई हैं। इन तीनों देशों में ही संक्रमण सबसे ज़्यादा है और सबसे ज़्यादा तेज़ी से भी फैल रहा है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें