loader

आईएमएफ़ के आँकड़ों को ग़लत ढंग से पेश कर देश को गुमराह कर रही है बीजेपी?

क्या भारतीय जनता पार्टी ने जानबूझ कर देश की आर्थिक स्थिति की ग़लत तसवीर पेश की? क्या उसने अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के पुराने आँकड़ों को मौजूदा आर्थिक स्थिति कह कर पेश किया ताकि वह यह प्रचारित कर सके कि कोरोना के बावजूद देश ज़बरदस्त आर्थिक प्रगति कर रहा है?
ऑल्टन्यूज़ ने अपनी एक ख़बर में इसकी पड़ताल की है। इसके मुताबिक़, 22 अगस्त को @BJP4India के ट्विटर हैंडल से एक ट्वीट किया गया। इसमें भारत समेत 9 देशों के सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी के आँकड़े देते हुए यह दावा किया गया है कि भारत की जीडीपी इनमें सबसे ऊपर होगी।
अर्थतंत्र से और खबरें
ट्वीट में कहा गया है, 'कोविड महामारी की वजह से दुनिया की अर्थव्यवस्था में खून खच्चर मचा रहा और विकास दर शून्य से नीचे चला गया, ऐसे में साल 2020 में सकारात्मक वृद्धि दर के साथ भारत जगमगाता हुआ स्थान बनाए रखेगा। यह सबसे तेज गति से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था का स्थान भी बऱकरार रखेगा।'
इसके साथ एक इनफ़ोग्राफिक्स भी लगाया गया है।  बाद में बीजेपी दिल्ली, बीजेपी ओडिशा और बीजेपी नागालैंड ने भी इस इनफ़ोग्राफिक्स को शेयर किया।
कई बीजेपी सांसदों ने इसे ट्वीट किया, जिनमें प्रमुख हैं मनोज राजोरिया, सुभाष भामरे, राजेश वर्मा, पुरूषोत्तम सबरिया, नित्यानंद राय और अर्जुन मुंडा।

पड़ताल

ऑल्टन्यूज़ ने इसकी पड़ताल की। इसके मुताबिक़, बीजेपी ने अप्रैल में इसी इनफ़ोग्राफिक्स का इस्तेमाल किया था जिसमें अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के 2020 व 2021 में जीडीपी का अनुमान था।
अप्रैल में किए गए ट्वीट में कहा गया था, 'भारतीय अर्थव्यवस्था इतनी मजबूत है कि वह कोरोना के आघात को झेल सकती है। ऐसे समय में जब दुनिया की ज़्यादातर अर्थव्यवस्थाएं मंदी और आर्थिक बदहाली की ओर बढ़ रही हैं, आईएमएफ़ ने 2020 और 2021 में 7.4 प्रतिशत वृद्धि का अनुमान लगाया है।'
BJP distorts IMF figure to mislead country on economy - Satya Hindi
इन दोनों ही ट्वीट में एक ही इनफोग्राफिक्स का इस्तेमाल किया गया था।

आईएमएफ़ का आउटलुक

बता दें कि आईएमएफ़ साल में दो बार अपना आउलटलुक यानी भविष्य का अनुमान जारी करता है, अप्रैल और सितंबर में। बीजेपी ने अप्रैल के जिस इनफ़ोग्रफिक का इस्तेमाल किया, वह वाकई उस संस्था ने जारी किया था।
लेकिन बीजेपी के लोगों ने होशियारी से इसी इनफ़ोग्राफिक का इस्तेमाल सितंबर का आउटलुक बताते हुए भी कर लिया, क्योंकि वह सकारात्मक था।
BJP distorts IMF figure to mislead country on economy - Satya Hindi
लेकिन जून महीने में आईएमएफ़ ने अपने आउटलुक की एक बार फिर समीक्षा की और नए आँकड़े जारी किए। इनमें 2020 के दौरान भारत की जीडीपी को शून्य से 4.5 प्रतिशत नीचे दिखाया गया था। आईएमएफ़ ने बयान में कहा था कि भारत की जीडीपी 4.5 प्रतिशत सिकुड़ेगी। यानी बीजेपी के ट्विटर हैंडल से झूठ बोला गया। 
इसी तरह बीजेपी का यह दावा भी ग़लत है कि भारत सबसे तेजी से विकास कर रही अर्थव्यवस्था बना रहेगा। आईएमएफ़ ने चीन और आशियान के 5 देशों की अर्थव्यवस्था को भारत से बेहतर होने की बात कही है। इसने यह भी कहा कि चीन एक मात्र देश होगा, जिसकी विकास दर सकारात्मक यानी शू्न्य से ऊपर होगी।
यानी, इस पड़ताल से यह साफ़ है कि बीजेपी ने आईएमएफ़ के इनफोग्राफिक्स का ग़लत इस्तेमाल कर भ्रामक दावा किया। यह भी साफ़ है कि बीजेपी ने विकास दर के मामले में भारत की ग़लत तसवीर पेश की।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें