loader
प्रतीकात्मक तसवीर

लखनऊ के एक कोर्ट में विस्फोट, दो वकील घायल

लखनऊ की एक अदालत में गुरुवार को बम धमाका हो गया। इसमें दो वकीलों के घायल होने की सूचना है। रिपोर्टों में कहा गया है कि तीन बम भी बरामद किए गए हैं। बम को निष्क्रिय करने वाला दस्ता मौक़े पर पहुँचा। धमाके की जगह उत्तर प्रदेश विधान सभा से सिर्फ़ एक किलोमीटर दूर है। हमले के बाद कुछ वकीलों ने सुरक्षा में चूक के विरोध में नारेबाज़ी की। 

घटना हज़रतगंज में लखनऊ कलेक्ट्रेट में घटी। रिपोर्टों के अनुसार विस्फोट तब हुआ जब इसको वकीलों के एक चैंबर पर फेंका गया। कहा जा रहा है कि लखनऊ बार एसोसिएशन के एक वरिष्ठ सदस्य को निशाना बनाया गया है। 'एनडीटीवी' की एक रिपोर्ट के अनुसार, एसोसिएशन के संयुक्त सचिव संजीव लोधी ने दावा किया कि उन्हें निशाना बनाया गया था और उन्होंने एक दूसरे वकील पर हमले का आरोप लगाया है। 

ख़ास ख़बरें
पिछले महीने ही वकीलों ने तब विरोध-प्रदर्शन किया था जब राज्य में कई जगह वकीलों की पिटाई किए जाने की घटनाएँ सामने आई थीं। तब बार एसोसिएशन ने काम के बहिष्कार का आह्वान किया था जिससे राज्य सरकार पर दबाव बने कि वकीलों की सुरक्षा के लिए वह क़ानून बनाए। बता दें कि जनवरी में शेखर त्रिपाठी नाम के वकील को पाँच लोगों ने पीट-पीट कर मार डाला था। तब काफ़ी विरोध प्रदर्शन हुए थे।

हमले की घटना के बाद कांग्रेस नेता प्रियंका गाँधी ने क़ानून-व्यवस्था को लेकर योगी सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि उत्तर प्रदेश सरकार को अब साफ़-साफ़ कह देना चाहिए कि उसने तीन साल तक जनता से झूठ बोला। प्रियंका ने कहा कि असल में प्रदेश में अपराधियों का बोलबाला है।

प्रियंका ने ट्वीट किया, 'राजधानी में कचहरी में वकीलों पर बम से हमले हो रहे हैं। राजधानी से लेकर सुदूर क्षेत्र तक कोई सुरक्षित नहीं है। क्या व्यवस्था है ये?'

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

विपक्ष उत्तर प्रदेश में क़ानून व्यवस्था को लेकर घेरता रहा है। इसी महीने दो फ़रवरी को जब लखनऊ में हमलावरों ने अखिल भारतीय हिंदू महासभा की उत्तर प्रदेश इकाई के अध्यक्ष रंजीत बच्चन की गोली मारकर हत्या कर दी थी तब समाजवादी पार्टी ने क़ानून व्यवस्था पर सवाल उठाए थे। समाजवादी पार्टी ने कहा था कि लखनऊ में दिनदहाड़े हिन्दू महासभा के अध्यक्ष की हत्या से आम जनमानस में दहशत है और उत्तर प्रदेश में सरकार और पुलिस का इक़बाल ख़त्म हो गया है। पार्टी ने ट्वीट कर कहा था कि राज्य की निकम्मी सरकार को तत्काल इस्तीफ़ा दे देना चाहिए। बता दें कि पिछले साल लखनऊ में ही हिंदू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की उनके घर में गला रेतकर हत्या कर दी गई थी। तब भी योगी सरकार पर विपक्ष ने क़ानून-व्यवस्था को लेकर सवाल उठाए थे। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें