loader

धोखाधड़ी का सबूत नहीं, लोगों की मदद कर रहे थे श्रीनिवास, पांडेय: दिल्ली पुलिस

भारत के लिए बेहद ख़तरनाक साबित हुई कोरोना महामारी की दूसरी लहर में लोगों की मदद करने में जुटे युवक कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी बेदाग साबित हुए हैं। 

दिल्ली पुलिस ने हाई कोर्ट को बताया है कि श्रीनिवास बीवी सहित बीजेपी सांसद गौतम गंभीर और आम आदमी पार्टी के विधायक दिलीप पांडेय लोगों की मदद कर रहे थे और शुरुआती जांच में सामने आया है कि इन पर लगे कोरोना की दवाइयों की कालाबाज़ारी और अवैध वितरण के आरोपों में सच्चाई नहीं है। 

पुलिस ने कुछ दिन पहले श्रीनिवास बीवी के अलावा, दिलीप पांडेय और गौतम गंभीर से भी इस मामले में पूछताछ की थी। 

ताज़ा ख़बरें

दिल्ली पुलिस ने अदालत को सौंपी अपनी स्टेटस रिपोर्ट में कहा है, “श्रीनिवास बीवी सहित बाक़ी लोगों ने मदद के लिए किसी भी व्यक्ति से कोई पैसा नहीं लिया और किसी के साथ भी कोई धोखाधड़ी नहीं हुई है। इन लोगों ने बिना किसी भेदभाव के अपने मन से मदद की है।” 

पुलिस ने मांगा और वक़्त

हालांकि इस रिपोर्ट को दाख़िल करते वक़्त पुलिस ने अदालत से पूरे मामले की बारीकी से जांच के लिए छह हफ़्तों का वक़्त मांगा है। पुलिस ने रिपोर्ट के साथ ही श्रीनिवास, गंभीर, दिलपी पांडेय, दिल्ली कांग्रेस के अध्यक्ष चौधरी अनिल कुमार, कांग्रेस नेता अली मेहदी, अशोक बघेल और पूर्व सांसद शाहिद सिद्दीक़ी के बयानों को भी अदालत के सामने रखा है।

क्यों हुई थी पूछताछ?

डॉ. दीपक सिंह नाम के शख़्स ने दिल्ली हाई कोर्ट में एक याचिका दायर कर कहा था कि कुछ राजनेता कोरोना की दवाइयों के अवैध वितरण में शामिल हैं। इस पर अदालत ने दिल्ली पुलिस को जांच करने का निर्देश दिया था। 

इस याचिका में श्रीनिवास बीवी, गौतम गंभीर, दिलीप पांडेय के अलावा कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, कांग्रेस के पूर्व विधायक मुकेश शर्मा और बीजेपी सांसद सुजॉय विखे का भी नाम शामिल था। 

याचिका में मेडिकल माफ़िया और राजनेताओं का गठजोड़ होने की बात कही गई थी और श्रीनिवास और उनकी टीम पर भी आरोप लगाया गया था कि ये लोग कोरोना के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवाइयों को अवैध रूप से बांट रहे हैं। 

‘बिना रूके करते रहेंगे काम’

दिल्ली पुलिस के द्वारा पूछताछ करने के बाद श्रीनिवास ने एनडीटीवी से बातचीत में कहा था, “हम अपना काम नहीं रोकेंगे और बिना रुके काम करते रहेंगे। जब हमने कुछ भी ग़लत नहीं किया है तो हम क्यों डरें। अगर हमारी छोटी-छोटी कोशिशों से किसी की जान बच जाती है तो हम नहीं रुकेंगे और इस तरह की जनहित याचिकाओं से नहीं डरते।” 

श्रीनिवास ने पुलिस से कहा था कि कोरोना महामारी के ऐसे वक़्त में जब केंद्र सरकार ने लोगों को उनके हालात पर छोड़ दिया है, जो लोग पीड़ितों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं उन्हें परेशान किया जा रहा है और यह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। दिलीप पांडेय ने भी पुलिस को बताया था कि जनप्रतिनिधि होने के नाते ही वह अपनी टीम के साथ पीड़ित लोगों की मदद कर रहे हैं।

दिल्ली से और ख़बरें

ऑक्सीजन सिलेंडर से लेकर, दवाइयों, बेड्स या फिर प्लाज्मा के इंतजाम तक श्रीनिवास बीवी और उनकी पूरी टीम लोगों की मदद में जुटी है। इसी तरह बाक़ी लोग भी पीड़ितों की मदद कर रहे हैं लेकिन ऐसे वक़्त में इन्हें परेशान किए जाने को लेकर दिल्ली पुलिस, मोदी सरकार की ख़ासी आलोचना भी हो रही है। हालांकि पुलिस ने कहा है कि वह ऐसा हाई कोर्ट के निर्देश पर कर रही है। 

दूसरी ओर, मोदी सरकार पर आरोप लग रहा है कि वह आम आदमी के मददगार बने विपक्षी दलों के नेताओं को परेशान कर रही है और इसमें श्रीनिवास बीवी से लेकर दिलीप पांडेय, मुकेश शर्मा और पप्पू यादव सहित कई नेताओं का नाम शामिल है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें