loader

जीएसटी वसूली दे रहा है अर्थव्यवस्था में सुधार के संकेत?

कोरोना और लॉकडाउन की वजह से तबाह भारतीय अर्थव्यवस्था में सुधार के संकेत दिखने लगे हैं। जीडीपी के शून्य से 23.9 प्रतिशत नीचे पहुँचने के बाद एक बार फिर बहुत ही धीमी रफ़्तार से ही सही, माँग-खपत निकली और लोगों ने खरीद-बिक्री शुरू की है। दिसंबर महीने में जीएसटी उगाही में 11.6 प्रतिशत की वृद्धि हुई और यह एक लाख करोड़ रुपए के ऊपर पहुँच गई।

जीएसटी यानी गुड्स एंड सर्विस टैक्स वह कर या टैक्स है जो आप सामान खरीदने या किसी तरह की सेवा लेने पर चुकाते हैं।

वित्त मंत्रालय के अनुसार नवंबर के कारोबार पर दिसंबर में 1,15,174 करोड़ रुपए बतौर जीएसटी केंद्र सरकार को मिले। यह पिछले 21 महीने में इकट्ठा हुई जीएसटी में सबसे ज़्यादा है। मंत्रालय ने कहा है, "अर्थव्यवस्था में हो रहे सुधार और जीएसटी नहीं चुकानों वालों और फ़र्जी बिल देने वालों के ख़िलाफ़ की गई कार्रवाई की वजह से ऐसा हुआ है।" 

ख़ास ख़बरें

उम्मीद से बढ़ कर

दिसंबर की जीएसटी उगाही उम्मीद से बढ़ कर है, यह पिछले साल इसी दौरान मिले टैक्स से भी ज़्यादा है। इसके पहले अप्रैल में जीएसटी उगाही में 32,172 करोड़ रुपए की कमी हुई थी। इसके एक महीने पहले ही लॉकडाउन का एलान किया गया था।

दिसंबर में हुई जीएसटी उगाही में 57,426 करोड़ रुपए राज्यों के हिस्से का है। इसके पहले यानी नवंबर में 1.05 लाख करोड़ की जीएसटी उगाही हुई थी। 

लॉकडाउन 

लॉकडाउन शुरू होते ही हर तरह की आर्थिक गतिविधियाँ पूरी तरह ठप हो गई थीं, जिससे जीएसटी मई-जून में न्यूनतम स्तर पर पहुँच गया था, उसके बाद बहुत ही मामूली सुधार और गिरावट होती रही। लेकिन नवंबर में पहली बार यह पिछले साल की तुलना में अधिक हुआ और पहली बार यह लाख करोड़ रुपए के स्तर को पार कर पाया।

After lockdwon Indian Economy improves as GST revenue goes up - Satya Hindi

याद दिला दें कि जीएसटी राजस्व को लेकर केंद्र और राज्य में जोरदार लड़ाई चली थी। केंद्र राज्यों को उनके हिस्से का जीएसटी बकाया नहीं दे रहा था, उसका कहना था कि उसके पास पैसे नहीं हैं, लिहाज़ा राज्य क़र्ज़ लेकर काम चलाएं। राज्यों का कहना था कि क़र्ज़ लेना ही है तो केंद्र सरकार ले, राज्य इस पचड़े में क्यों पड़े।

माँग-खपत बढ़ी

महत्वपूर्ण यह है कि माँग-खपत में बढ़ोतरी ऐसे समय हो रही है जब यह आशंका जताई जा रही है कि कोरोना का कहर कम हो जाने के बाद भी भारतीय अर्थव्यवस्था उसकी चपेट से लंबे समय तक नहीं निकल पाएगी। कुछ दिन पहले ही 'ऑक्सफोर्ड इकोनॉमिक्स' ने एक रिपोर्ट में कहा था कि भारतीय अर्थव्यवस्था कोरोना से सबसे बुरी तरह से प्रभावित होने वाली अर्थव्यवस्थाओं में एक होगी।

इसने यह भी कहा है कि इसकी आर्थिक वृद्धि दर कोरोना शुरू होने के पहले की दर से 12 प्रतिशत कम होगी। दक्षिण एशिया और दक्षिण पूर्व एशिया की अर्थव्यवस्थाओं के विभाग की प्रमुख प्रियंका किशोर ने अनुमान लगाया है कि अगले पाँच साल में भारत की विकास दर 4.5 प्रतिशत होगी। कोरोना के पहले यह अनुमान 6.5 प्रतिशत था।

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने भी कहा था कि मार्च 2021 तक भारत की आर्थिक गति शून्य से 10.3 प्रतिशत नीचे चली जाएगी। इसके पहले स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने भी लगभग ऐसी ही बात कही थी। उसने भारतीय अर्थव्यवस्था के 10.8 प्रतिशत सिकुड़ने का अनुमान लगाया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें