loader

महाराष्ट्र : सिविल अस्पताल में आठ दिन तक सड़ती रही कोरोना रोगी की लाश!

गुजरात के सरकारी सिविल अस्पताल पर तो हाई कोर्ट तक अपनी प्रतिक्रिया दे चुका है, जिसमें उसने अहमदाबाद सिविल अस्पताल की तुलना कालकोठरी से की थी। गुजरात से सटे महाराष्ट्र के जलगाँव स्थिति सिविल अस्पताल की एक घटना भी रोंगटे खड़े कर देने वाली है।
बेहद परेशान करने वाले एक घटनाक्रम में महाराष्ट्र में कोरोना इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती एक बुजुर्ग महिला की सड़ी-गली लाश आठ दिनों के बाद टॉयलेट से निकाली गई। यह कहानी उस परिवार की है, जिसकी एक और महिला की मौत आईसीयू का इंतजार करते-करते हो गई।
महाराष्ट्र से और खबरें

घर चली गई?

इंडियन एक्सप्रेस ने एक ख़बर में कहा है कि महाराष्ट्र के जलगाँव में 82 साल की बुजुर्ग महिला मालती नेहेटे को 2 जून को सिविल अस्पताल में दाखिल कराया गया। अस्पताल ने दावा किया कि यह बुजुर्ग महिला खुद ब खुद अस्पताल से चली गईं।
इस अस्पताल में दाखिल मालती नेहेटे सांस की तकलीफ़ के बीच टॉयलेट गईं और वहीं उन्होंने अंतिम सांस लीं।
अस्पताल के किसी आदमी ने उस क्यूबिकल में जाकर भर्ती रोगी का हालचाल जानने की कोशिश नहीं की, किसी ने यह पता लगाने की कोशिश नहीं कि वह महिला आखिर कहाँ है।
उन्हें खोजने की कोशिश नहीं हुई। इसके उलट घर वालों को कहा गया कि वह खद ब खुद चली गईं। सवाल यह है कि क्या किसी रोगी को इस तरह बग़ैर पैसे चुकाए और बग़ैर औपचारिकताएं पूरी किए क्या कोई अस्पताल जाने देता है?

जाँच के आदेश

इस कांड पर हल्ला मचने के बाद अस्पताल के डीन डॉक्टर बी. एस. खैरे समेत 5 लोगों को निलंबित कर दिया गया। स्वास्थ्य शिक्षा के सचिव संजय मुखर्जी ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा किविस्तृत जाँच का आदेश दे दिया गया है।
इस अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में रोगियों को बेडपैन नहीं दिया गया था और नर्स व दूसरे स्टाफ रोगियों को छूने से भी इनकार कर रहे थे। बुजुर्ग महिला के पोते हर्षल नेहेटे के लिए यह दुहरी त्रासदी है। इसके पहले 60 साल की उम्र की उनकी माँ की मौत कोरोना से हो गई। 
हर्षल नेहेटे अपनी माँ को लेकर अस्पताल में आईसीयू में बेड पाने का इंतजार करते रहे। उनकी माँ इंतजार करते-करते यह दुनिया छोड़ गईं।
हर्षल ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, 'मैं सोचता हूं तो काँप जाता हूँ। वह कैसे चल कर गई होगी अकेले टॉयलेट तक। वह तो ठीक से चल भी नहीं पाती थी।'
मालती नेहेटे के गायब होने की बात कहे जाने पर उनके परिजन पुलिस में गये, पुलिस ने अस्पताल का मुआयाना भी किया। हर्षल नेहेटे ने कई बार कहा कि एक बार टॉयलेट देख लिया जाए पर किसी ने टॉयलेट की जाँच नहीं की।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें