loader

सुप्रीम कोर्ट सोचे कि संविधान ने उसे क्या दायित्व सौंपा है और वह किस ओर जा रहा है

मशहूर इतिहासकार रामचंद्र गुहा ने न्यायपालिका की मौजूदा स्थिति पर सुप्रीम कोर्ट के जजों के नाम एक खुली चिट्ठी लिखी है, जिसे 'इंडियन एक्सप्रेस' ने प्रकाशित किया है। पेश है उसका हिन्दी अनुवाद।
रामचंद्र गुहा

माननीय जज महोदयों!

मैं यह पत्र सम्मान और पीड़ा के साथ लिख रहा हूँ। मैं यह एक इतिहासकार और सामान्य नागरिक की हैसियत से लिख रहा हूँ, इन दोनों ही रूपों में मैं सर्वोच्च न्यायलय के कामकाज के प्रति लोगों के घटते विश्वास से चिंतित हूँ। 

मैं यह सीधे -सीधे कह दूँ कि यह भारतीय लोकतंत्र के पतन का ही हिस्सा है, जिसमें निश्चित रूप से अदालत की केंद्रीय भूमिका रही है। इस पतन के दूसरे और शायद अधिक गंभीर रूप हैं- नौकरशाही व पुलिस, व्यक्ति को केंद्र में रख कर पूरे एक पंथ का निर्माण, मीडिया को डराना-धमकाना, टैक्स व जाँच एजेंसियों का इस्तेमाल कर स्वतंत्र आवाज़ को डराना-धमकाना, औपनिवेशिक युग के दमनकारी क़ानूनों को हटाने के बजाय उसे और सख़्त करना और राज्यों के अधिकारों को लगातार कम करते हुए संघीय ढाँचे को कमज़ोर करना। 
मैं यह भी साफ़ कर दूँ कि भारतीय लोकतंत्र में गिरावट किसी एक पार्टी या व्यक्ति के कारण नहीं हो रहा है। लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं को विकृत करने का यह काम कांग्रेस ने शुरू किया था,  जब वह केंद्र की सत्ता में थी और मई 2014 से भारतीय जनता पार्टी ने उसे और आगे बढ़ाया है। 
हालांकि सुप्रीम कोर्ट को इसके लिए ज़िम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है कि भारतीय लोकतंत्र का यह पतन कैसे और क्यों शुरू हुआ, हाल के वर्षों में इसने इसे रोकने के लिए कुछ नहीं किया है।
इस मामले में अदालत की नाकामी के कुछ उदाहरण हैं, यूएपीए जैसे क़ानून, जिनका संवैधानिक लोकतंत्र में कोई स्थान नहीं होना चाहिए, उन्हें खारिज करने से अदालत का इनकार करना, बड़े मामलों की सुनवाई में देरी करना, (मसलन, चुनाव फंडिंग और समान नागरिकता क़ानून), कश्मीर के बच्चों और छात्रों को बुनियादी मानवाधिकारों से वंचित रखना, लोकतंत्र में सबसे लंबे समय तक इंटरनेट बंद कर पूरे एक साल के लिए शिक्षा और ज्ञान के सभी साधनों को रोकना। संविधान विशेषज्ञ और वकील इन उदारणों में और बहुत कुछ जोड़ सकते हैं। 
अधिनायकवाद और सत्ता के केंद्रीयकरण के इस ट्रेंड को कोविड-19 के संकट ने और आगे बढ़ाया है। केंद्र सरकार और सत्तारूढ़ दल ने व्यक्तित्व-आधारित पंथ की प्रवृत्ति को और आगे बढ़ाया है ताकि राज्य सरकारों के अधिकारों को और कम किया जा सके, स्वतंत्र मीडिया पर हमले किए जा सकें। यह अफ़सोस की बात है कि जैसा कि बीते कुछ महीनों की सुनवाइयों और आदेशों से साफ़ है, सर्वोच्च अदालत इन अशुभ रुझानों को रोकने में अनिच्छुक या असफल है। 
एक मुख्य न्यायाधीश ने दमनकारी क़ानून के तहत जेल में बंद माँ से मिलने के लिए तड़प रही एक बेटी से कहा कि वह ठंड से बचे, एक दूसरे न्यायाधीश ने यकायक हुए लॉकडाउन की वजह से बेरोज़गार हुए प्रवासी मज़दूरों से कहा कि उन्हें वेतन की माँग नहीं करनी चाहिए क्योंकि उन्हें थोड़ा बहुत खाना तो मिल ही रहा है, मुख्य न्यायाधीश इस तरह की निष्ठुर और संवेदनहीन बातें करें, यह अपने आप में सुप्रीम कोर्ट के लिए अच्छा नहीं है। 
मौजूदा सरकार के 6 साल के कार्यकाल में एक मुख्य न्यायाधीश रिटायर होने के तुरन्त बाद राज्यपाल बनना स्वीकार कर लेते हैं और एक दूसरे न्यायाधीश राज्यसभा का सदस्य बनने पर राजी हो जाते हैं, अदालत के लिए यह तो और बुरी बात है।
इसके बावजूद अकेले शीर्ष पर बैठे आदमी को दोष नहीं दिया जा सकता है। मुमकिन है कि 'मास्टर ऑफ़ द रोस्टर' की क्षमताओं को सही ढंग से परिभाषित नहीं किया गया हो, और पद पर बैठा आदमी इसका दुरुपयोग कर सकता है, (जे. चेलामेश्वर और दूसरे लोगों ने 2018 में प्रेस कॉन्फ्रेंस में इस पर ज़ोर दिया था।)। लेकिन यदि हमारी लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं और संस्थानों का क्षरण लगातार, सिलसिलेवार ढंग से और बढ़ती रफ़्तार से हो रहा हो तो इसकी ज़िम्मेदारी सिर्फ मुख्य न्यायाधीशों पर ही नहीं डाली जा सकती है। 
मुझे लगता है कि अब समय आ गया है कि देश की सबसे बड़ी अदालत के सभी कार्यरत जजों को संविधान द्वारा दिए गए दायित्वों और अदालत जिस दिशा में जा रहा है, उसके बीच के अंतर पर विचार करना चाहिए।
सुप्रीम कोर्ट की प्रतिष्ठा आपातकाल के बाद से अब तक शायद सबसे निचले स्तर पर है। हमारे शीर्ष के संविधान विद्वानों के लेखों को पढ़ने से ऐसा ही लगता है।
अंतिम मुख्य न्यायाधीश के बारे में गौतम भाटिया ने लिखा है कि उनके कार्यकाल में सुप्रीम कोर्ट एक ऐसे संस्थान से जिसका मुख्य काम लोगों के बनियादी हकों की सुरक्षा करना था, उससे गिर कर ऐसा संस्थान बन गया है, जो कार्यकारी  की भाषा बोलता हो, जिसे कार्यकारी से अलग करना मुश्किल हो गया हो। ( 'द वायर', 16 मार्च, 2019)। 
इस दौरान प्रताप भानु मेहता ने कहा कि हम सुप्रीम कोर्ट की ओर संविधान की रक्षा के लिए देखते हैं, अदालत का फ़ैसला क्या होगा, यह हमे नहीं मालूम, पर हाल के इतिहास से हमने यह सीखा है कि लोकतंत्र में सुप्रीम कोर्ट कैसे काम करता है, इस मामले में हम ग़लतफ़हमी के शिकार हुए हैं। हाल के दिनों में सुप्रीम कोर्ट ने हमें बुरी तरह निराश किया, राजनीतिक आज़ादी न होने से काम टालने, नहीं करने की इच्छा और उत्साह की कमी से ऐसा हुआ है। ('इंडियन एक्सप्रेस', 12 दिसंबर, 2019)।
सबसे ताजा मिसाल है, सुहास पलसीकर ने ‘भारतीय राज्य का उत्पीड़क में तब्दील होना’  लेख में कहा कि उत्पीड़क में बदलने की यह राजनीतिक तब्दीली इतनी आसानी से  नहीं हुई होती यदि न्यायपालिका ने मुँह फेर कर दूसरी ओर नहीं देखा होता। ('इंडियन एक्सप्रेस', 4 अगस्त)।  
न्यायपालिका के सबसे अनुभवी और बुद्धिमान लोग भी इन बातों से सहमत हैं, जो सार्वजनिक रूप से अपनी व्यग्रता जाहिर नहीं कर सकते। 
मैं भाटिया, मेहता और पलसीकर के आकलन का समर्थन करता हूं। इसके साथ ही एक इतिहासकार के रूप में मैं यह भी  जानता हूं कि संस्थानें सड़ती हैं, पर उन्हें फिर से ठीक भी किया जा सकता है। 
सुप्रीम कोर्ट के मामले में, 1970 के दशक में राजनीतिक  लोगों और सत्ता में बैठे लोगों के सामने आपातकाल के दौरान समर्पण के बाद 1980 और 1990 के दशक में अपनी स्वायत्तता और स्वतंत्रता पर उसने ज़ोर दिया। इसी तरह यह उम्मीद की जा सकती है कि मौजूदा समय का पतन रुक सकता है और इसे एक बार फिर दुरुस्त किया जा सकता है, एक तरफ अधिनायकवादी और सांप्रदायिक कट्टरता की ताक़तें तेजी से आगे बढ़ रही हैं और सुप्रीम कोर्ट इसे रोकने की दिशा में कुछ नहीं कर रहा है या जो कुछ कर रहा है वह नाकाफी है, दूसरी ओर इतिहास और संविधान के विद्वानों का फ़ैसला मौजूदा समय से अधिक कड़ा हो सकता है। 
इस मामले में आज की अदालत को भविष्य में आने वाली पीढियों के लोग कार्यकारी के अदालत के रूप में ही नहीं देखेंगे, बल्कि उसे इस रूप में देखेंगे जो कार्यकारी के साथ मिलीभगत कर काम करता हो। 
इसलिए यह  पत्र एक इतिहासकार और नागरिक की ओर से है, जो लोकतंत्र और संवैधानिक ढाँचे को अपनी आँखों के सामने टूट कर बिखरता हुआ देख रहा है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
रामचंद्र गुहा
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें