loader

क्या अयोध्या के बाद अब मथुरा और वाराणसी की बारी है?

क्या अयोध्या के बाद अब मथुरा और वाराणसी की बारी है? क्या रामजन्मभूमि विवाद के बाद वाराणसी में काशी विश्वनाथ मंदिर और मथुरा में श्रीकृष्णजन्मभूमि मंदिर के लिए आन्दोलन शुरू होने वाला है? ये सवाल इसलिए उठते हैं कि अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने कहा है कि वह इन दो मंदिरों के लिए क़ानूनी लड़ाई शुरू करने जा रही है। 
इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, प्रयागराज में 13 अखाड़ों के प्रमुखों की बैठक हाल फ़िलहाल हुई है, जिसमें यह फ़ैसला लिया गया। इस बाबत एक प्रस्ताव भी पारित किया गया।
उत्तर प्रदेश से और खबरें

क्या कहना है अखाड़ा परिषद का?

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, 'वाराणसी के काशी विश्वनाथ मंदिर और मथुरा के कृष्ण जन्मभूमि मंदिर को आज़ाद कराने का प्रस्ताव पास किया गया। मुसलिम आक्रमणकारियों और आतंकवादियों ने मुग़ल काल में मंदिरों को तोड़ कर वहां मसजिद व मक़बरे बना दिए।' उन्होंने इसके आगे कहा,

'जिस तरह संत समाज ने अयोध्या के रामजन्मभूमि मंदिर को मुक्त कराने के लिए आन्दोलन चलाया था, वाराणसी और मथुरा के मंदिरों के लिए भी वैसा ही आन्दोलन शुरू किया जाएगा। अखाड़ा परिषद जल्द ही वाराणसी और मथुरा में इन मंदिरों के तोड़े जाने से जुड़ा एफ़आईआर दर्ज कराएगी।'


महंत नरेंद्र गिरि, अध्यक्ष, अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद

अखाड़ा परिषद ने यह भी कहा कि इस मामले में विश्व हिन्दू परिषद और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की भी मदद ली जाएगी। महंत नरेंद्र गिरि ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा कि परिषद इस मामले में एक पक्ष बनेगी और इसकी क़ानूनी लड़ाई लड़ेगी। पर इसके लिए कोई असंवैधानिक रास्ता नहीं अपनाया जाएगा।
अखाड़ा परिषद बहुत बड़ा संगठन नहीं है, उत्तर प्रदेश के बाहर इसका बड़ा आधार भी नहीं है। ऐसे में इसके इस बयान को कुछ स्थानीय आचार्यों की कोशिश माना जा सकता है जो अपने निजी हित के लिए यह सब कर रहे हैं। पर इसे हल्के में भी नहीं लिया जाना चाहिए क्योंकि किसी समय विश्व हिन्दू परिषद की भी पहचान उत्तर प्रदेश तक ही सीमित थी और रामजन्मभूमि मंदिर विवाद से ज़्यादातर हिन्दू परिचित नहीं थे। पर विश्व हिन्दू परिषद ने इसे मुद्दा बनाया और उसके आधार पर ही वह बड़ी होती गई, आगे बढ़ती गई।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें