loader

भीकाजी कामा : महामारी को मात देकर अंग्रेज़ी शासन के ख़िलाफ़ जूझ पड़ीं

भीकाजी कामा को हम यूरोप में रहकर राष्ट्रवादी मुहिम चलाने और सभी तरह के क्रांतिकारियों को एक झंडे तले लाने वाली शख्सियत के रूप में जानते हैं, लेकिन उनके जीवन में प्लेग की महामारी ने भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

मुंबई के संपन्न पारसी परिवार में जन्मी भीकाजी पटेल जब बड़ी हुईं तो परिवार उनके क्रांतिकारी विचारों से चिंतित हो उठा। फ़ैसला हुआ कि इनकी शादी कर दी जाए। जल्द ही विवाह कर दिया गया और वे शहर के मशहूर वकील रुस्तम केआर कामा के साथ डोली में विदा हो गईं। लेकिन वैवाहिक जीवन के शरुआती कुछ साल बीतने के बाद समस्याएँ खड़ी होने लगीं। वह क्रांतिकारी राष्ट्रवादी विचारों की थीं और उनके पति ब्रिटिश शासन के पक्के समर्थक। भीकाजी को समझ आ गया कि मामला ज़्यादा चलने वाला नहीं है। हालाँकि उन्होंने इसे लेकर कोई बड़ा फ़ैसला लेने के बजाए ख़ुद को सामाजिक कार्यों में लगा दिया।

ताज़ा ख़बरें

इसी बीच मुंबई में प्लेग की महामारी फैल गई। भीकाजी मुबंई के ग्रांट मेडिकल काॅलेज पहुँचीं और अपना नाम स्वयं सेवकों की सूची में दर्ज कर दिया। अगले ही दिन से उन्होंने वार्ड में ड्यूटी देने से लेकर गंदी बस्तियों के सफ़ाई अभियान में जाने का काम शुरू कर दिया। यह ऐसा काम था जो न उनके मायके वालों को पसंद आया और न ससुराल वालों को। इसका जो जोख़िम था वो अलग। नगर के लोग ही नहीं अस्पतालों में काम करने वाले स्वास्थ्यकर्मी भी बड़े पैमाने पर प्लेग का शिकार बन रहे थे। यह जोख़िम इसलिए भी बड़ा था कि शुरुआत में इस महामारी के शिकार लोगों में मृत्यु दर 82 फ़ीसदी थी, यानी औसतन सिर्फ़ सौ में 18 लोगों की ही जान बच पाती थी। बाद में जब हाॅफकिन की वैक्सीन और लस्टिग का सीरम उपलब्ध हुआ तो यह मृत्यु दर 50 फ़ीसदी तक आ गई, लेकिन ख़तरा तब भी छोटा नहीं था।

भीकाजी ने लगातार कई साल तक प्लेग के मरीज़ों की सेवा की। जब बीसवीं सदी का पहला साल शुरू हुआ तो प्लेग के संक्रमण ने उन्हें भी डस लिया। लेकिन कई दिनों के संघर्ष के बाद अंततः वह बच गईं। उन्होंने अपने आप प्लेग को मात दी या वैक्सीन, सीरम वगैरह से उनका इलाज हुआ इसका ब्योरा उपलब्ध नहीं है।

डाॅक्टरों ने जब उन्हें प्लेग से बच निकलने की ख़बर दी तभी उन्हें एक दूसरी ख़बर भी मिली। उनके पति रूस्तम कामा ने उन्हें तलाक़ दे दिया था।

विचार से ख़ास

प्लेग को तो उन्होंने हरा दिया था लेकिन शारीरिक रूप से वह काफ़ी कमज़ोर हो गई थीं। उनके परिवार ने तय किया कि स्वास्थ्य लाभ के लिए उन्हें ब्रिटेन भेज दिया जाए। हालाँकि एक बार जब वह यूरोप गईं तो जीवन के अंतिम वर्ष में ही लौटीं।

लंदन में उनकी मुलाक़ात दादा भाई नौरोजी से हुई और उसके बाद उन्होंने राष्ट्रवादी आंदोलन को संगठित करने का बीड़ा उठा लिया। ब्रिटिश सरकार ने जब उन पर पाबंदियाँ लगानी शुरू कीं तो वह पेरिस चली गईं और वहाँ जाकर क्रांतिकारियों को संगठित करने का काम किया।

जीवन के अंत तक वह यही कहती रहीं कि प्लेग की महामारी और उससे जुड़ी समस्याएँ भारत को अंग्रेज़ सरकार की देन हैं।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
हरजिंदर
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें